The news is by your side.

खदरा गांव की गलियां हुई जलमग्न

-जलभराव के चलते 2 दलित परिवारों के मकान ढहे

-दबंग युवक की करतूतों के चलते नारकीय जीवन व्यतीत करने को मजबूर ग्रामीण

मिल्कीपुर। कुमारगंज थाना क्षेत्र के सिधौना गांव में आबादी के बीचो बीच स्थित तालाब में लगी ह्यूम पाइप से जल निकास बंद कर दिए जाने के चलते समूचा गांव जलमग्न हो गया गांव में जलभराव हो जाने के चलते गरीबों के कच्ची मिट्टी के मकान ढहने शुरू हो गए हैं। थक हार कर ग्रामीणों ने पानी निकलने वाली पाइप बंद करने वाले युवक के विरुद्ध कुमारगंज थाने में तहरीर देकर अनहोनी एवं जनहानि से ग्रामीणों को बचाए जाने की गुहार की है।

Advertisements

बताते चलें कि विगत कई दिनों से हुई मूसलाधार बारिश के बीच सिधौना ग्राम पंचायत के एक मजरा खदरा गांव के बीच स्थित है जिसे गांव का ही एक युवक अपने पक्ष में तहसील प्रशासन से मत्स्य पालन हेतु पट्टा करा लिए जाने की बात करते हुए मछलियां पाल रखी है। इस बीच कई दिनों से लगातार मूसलाधार बारिश का कहर जारी है जिसके चलते गांव की गलियों सहित तालाब में भारी मात्रा में पानी भर गया है। जिसके चलते ग्रामीण नारकीय जीवन व्यतीत करने को मजबूर है।

जलभराव के चलते गांव के गरीब दो दलित परिवारों भवानी प्रसाद और सीताराम के कच्चे मिट्टी के मकान भरभरा कर गिर गए हैं और उनकी संपूर्ण गृहस्थी मलबे में दबकर नष्ट हो चुकी है। ग्रामीणों ने अजीत कुमार के नेतृत्व में कुमारगंज पुलिस को दिए गए शिकायती प्रार्थना पत्र में आरोप लगाया है कि युवक ज्ञान प्रकाश द्वारा तालाब से जल निकासी के लिए स्थापित हयूम पाइप को बंद कर दिया है जिसके चलते तालाब सहित गांव की गलियों का पानी बाहर नहीं निकल पा रहा है। ग्रामीणों के घरों में भी पानी भर गया है जिसके चलते उनकी जिंदगी नरक बन गई है।

इसे भी पढ़े  राजेंद्र प्रसाद पाण्डेय का चरित्र, जुझारूपन पत्रकारों के लिए पथ प्रदर्शक : लल्लू सिंह

आधा दर्जन ग्रामीणों के संयुक्त हस्ताक्षर से दिए गए शिकायती प्रार्थना पत्र के बाद भी मामले में एसडीएम दिग्विजय प्रताप सिंह क्षेत्राधिकारी राकेश कुमार श्रीवास्तव सहित स्थानीय पुलिस प्रशासन कोई प्रभावी कार्यवाही नहीं कर सका है। गांव में जलभराव के चलते कभी भी कोई भी अप्रिय घटना कर सकती हैं जिसमें बड़े पैमाने पर धन हानि से लेकर से लेकर जनहनि तक होने की प्रबल संभावना है।

Advertisements

Comments are closed.