The news is by your side.

गन्ना किसानों की समस्याओं से समिति पदाधिकारियों में उबाल

सुनकर निस्तारित की गई समस्याएं, दो दिन में समस्याओं का निस्तारण न होने पर समिति तथा मिल में जड़े जाएंगे ताले

अयोध्या। गन्ना किसानो की समस्याओं को लेकर मंगलवार को गन्ना समिति में एक बार फिर उबाल आ गया। पर्ची को लेकर परेशान किसानों की समस्याओं के निस्तारण को लेकर आनन-फानन में समिति कार्यालय पर कर्मचारियों व पदाधिकारियों की संयुक्त बैठक आयोजित की गई। बैठक की अध्यक्षता कर रहे जिला गन्ना अधिकारी ने दो दिन के भीतर किसानो का समस्याओं का निस्तारण का आश्वासन दिया वहीं इस अवधि में समस्याएं निस्तारित न होने पर किसानों ने समिति कार्यालय तथा चीनी मिल बंद कराने की चेतावनी दी है।
ज्ञातव्य की कैलेंडर के अनुरूप पर्ची न मिलने सहित कई अन्य समस्याओं को लेकर गन्ना किसान लंबे समय से परेशान हैं। इसे लेकर सोमवार को मसौधा समिति कार्यालय पर किसानों ने हंगामा कर विरोध दर्ज कराया था। इस कड़ी में मंगलवार को नियावां स्थित समिति कार्यालय पर सैकड़ों की गन्ना किसान पहुंच गए तथा मौके पर मौजूद गन्ना समिति चेयरमैन प्रतिनिधि शिवेंद्र सिंह व अन्य पदाधिकारियों से अपनी समस्याएं दर्ज कराने लगे। इसे सुनकर प्रतिनिधि श्री सिंह ने आक्रोश जाहिर करते हुए जिला गन्ना अधिकारी से वार्ता की तथा उन्हें तत्काल समिति कार्यालय पर पहुंचकर किसानों की समस्याओं को सुनने की बात कही जिसके बाद कार्यालय परिसर में करीब तीन घंटे तक जिला गन्ना अधिकारी के नेतृत्व में गन्ना पर्यवेक्षक व समिति पदाधिकारियों की मैराथन बैठक चली। बैठक में गन्ना किसानों ने रिजेक्ट तथा अरबी फसल से जुड़ी समस्याओं, कैलेंडर के अनुरूप पर्ची वितरण न कराए जाने सहित कई अन्य मांगे उठाई । जिला गन्ना अधिकारी ने इन मांगों को शीघ्र पूरा कराने के बाद पर्ची जारी करने वाली एजेंसी को सचिव द्वारा भेजे गए पत्र के क्रम में पर्ची निकालने तथा पर्ची वितरण में बड़े गांवों का विशेष ध्यान रखने का निर्देश दिया जिसके बाद गन्ना किसानों का आक्रोश थम सका। जिला गन्ना अधिकारी ने मिल में वाहनों के प्रवेश में अवरोध होने पर तत्काल उन्हें सूचित करने का अनुरोध किया।
वहीं दूसरी ओर चेयरमैन प्रतिनिधि श्री सिंह ने मिल प्रशासन के व्यवहार को किसान विरोधी करार देते हुए कहा कि पर्ची विभाग द्वारा जारी की करने की दशा में उसका सीरियल नंबर मिल प्रशासन द्वारा बताने तथा किसानों के गन्ने का सूखा बताकर मिल प्रशासन द्वारा वापस किए जाने के मामले संज्ञान में आए हैं जो कतई बर्दाश्त के काबिल नहीं है। दो दिन के भीतर यदि गन्ना किसानों की लंबी समस्याओं का पूर्ण निराकरण नहीं किया जाता तथा किसानों के साथ किया जा रहा उत्पीड़नात्मक दुर्व्यवहार बंद नहीं किया जाता तो जिले के गन्ना किसान समिति कार्यालय तथा मिल पर ताला जड़कर अपना कड़ा विरोध दर्ज कराएंगे। बैठक में सचिव सुनील कुमार वर्मा गन्ना पर्यवेक्षक रामदास विश्वकर्मा राम निरंजन वर्मा राम सवारे महेंद्र चौधरी अशोक सिंह, गिरीश चंद्र मिश्रा, प्रेमचंद्र मिश्र, राममिलन वर्मा, आशीष सिंह, आलोक सिंह, सुजीत विक्रम सिंह, अजीत सिंह सहित कर्मचारी व गन्ना किसान मौजूद रहे।

Advertisements
Advertisements

Comments are closed.