The news is by your side.

प्रायोजित निंदा एवं प्रायोजित प्रशंसा चौथे स्तंभ को कलंकित कर रही : प्रभात रंजन दीन

वरिष्ठ पत्रकार राज खन्ना का कहना था कि मीडिया की ताकत उस पर लोगों भरोसा है। ये भरोसा क्यों डिगा है , इसके लिए अपने भीतर भी झांकना होगा। समझना होगा कि इस ताकत का दुरुपयोग न हो। प्रिंट पर ही नहीं बल्कि लाइव टेलीकास्ट पर भी आज पाठक -दर्शक की संशय की दृष्टि है , यह आज की सबसे बड़ी चुनौती और संकट है।

-श्रमजीवी पत्रकार यूनियन की सुल्तानपुर इकाई की ओर से , “ पत्रकारिता – नया दौर एवं नई चुनौतियां विषय पर हुई कार्यशाला


सुल्तानपुर। मीडिया की विश्वसनीयता पर उठते सवाल पत्रकारों की कार्यशाला में हुई चर्चा के केंद्र में थे। ये हालात क्यों पैदा हुए , इसके लिए सत्ता और संस्थानों की भूमिका के साथ खुद के भीतर भी झांकने की कोशिश हुई। श्रमजीवी पत्रकार यूनियन की सुल्तानपुर इकाई की ओर से , “ पत्रकारिता – नया दौर एवं नई चुनौतियां “ विषयक इस कार्यशाला में पूरी चर्चा विषय केंद्रित रही और वक्ताओं ने अपने व्याख्यानों और प्रतिभागियों ने समूह चर्चा में चुनौती और संकट भरे इस दौर में अपनी जिम्मेदारियों के निर्वहन पर संजीदा विचार – विमर्श किया।

Advertisements

कार्यशाला के मुख्य वक्ता प्रख्यात पत्रकार प्रभात रंजन दीन ने, खबरों में छायी “ प्रायोजित निंदा और प्रायोजित प्रशंसा “ के मर्ज के नतीजों का जिक्र किया। जोर दिया कि इसने इलेक्ट्रॉनिक और प्रिंट सहित सभी समाचार माध्यमों की विश्वसनीयता पर चोट पहुंचाई है और इसी वजह से लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पत्रकारिता का सम्मान गिरता जा रहा है। दीन ने जनप्रतिनिधियों की सक्रियता को पत्रकारिता के उद्धार एवं उत्थान के लिए आवश्यक बताया। कहा‌कि जो भी संवाददाता अपने सांसद और विधायकों से यह जरूर पूछे कि वह पत्रकारिता के उद्धार के लिए क्या प्रयास कर रहे हैं ?

इसे भी पढ़े  शिया मुसलमानों ने मनाई ईद, पेश की गई मुबारकबाद

कार्यक्रम के अध्यक्ष वरिष्ठ पत्रकार राज खन्ना का कहना था कि मीडिया की ताकत उस पर लोगों भरोसा है। ये भरोसा क्यों डिगा है , इसके लिए अपने भीतर भी झांकना होगा। समझना होगा कि इस ताकत का दुरुपयोग न हो। प्रिंट पर ही नहीं बल्कि लाइव टेलीकास्ट पर भी आज पाठक -दर्शक की संशय की दृष्टि है , यह आज की सबसे बड़ी चुनौती और संकट है। एक दौर में मीडिया साधनों से विपन्न था लेकिन उसके पास पाठक के भरोसे की प्रचुर पूंजी थी। आज साधन संपन्नता है लेकिन भरोसे के मोर्चे पर विपन्नता है। भरोसे से भौतिक संसाधन जुटाए जा सकते हैं लेकिन संसाधनों से भरोसा नहीं हासिल किया जा सकता।

शहर के आदर्श मैरिज प्वाइंट पर शुक्रवार को मां सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण और दीप प्रज्वलन कार्यक्रम का औपचारिक शुभारंभ मुख्य अतिथि प्रभात रंजन दीन के साथ ही वरिष्ठ पत्रकार राज खन्ना, चंद्रभान यादव व भाजपा के पूर्व क्षेत्रीय अध्यक्ष डॉ एमपी सिंह, जिला सूचना अधिकारी डॉ धीरेंद्र कुमार द्वारा किया गया। अमरउजाला के मुख्य उप संपादक एवं विशिष्ट अतिथि चंद्रभान यादव ने मीडिया की जिम्मेदारियां से लोगों को परिचित कराया। यूएनआई छत्तीसगढ़ के स्टेट ब्यूरो प्रमुख अशोक साहू ने कहा कि नवीनता, तथ्यों का संकलन और प्रासंगिकता समाचार का अनिवार्य घटक है। इसे हमेशा समाचार बनाते समय ध्यान रखने की जरूरत है।

शुक्रवार को शहर के आदर्श मैरिज प्वाइंट पर आयोजित कार्यक्रम में मां सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण और दीप प्रज्वलन के साथ कार्यक्रम का औपचारिक शुभारंभ मुख्य अतिथि प्रभात रंजन दीन के साथ ही वरिष्ठ पत्रकार राज खन्ना, चंद्रभान यादव व भाजपा के पूर्व क्षेत्रीय अध्यक्ष डॉ एमपी सिंह, जिला सूचना अधिकारी डॉ धीरेंद्र कुमार द्वारा किया गया। जिलाध्यक्ष दर्शन साहू ने आए हुए लोगों का आभार जताते हुए इस कार्यशाला से सीख लेने का संवाददाताओं से आग्रह किया। महामंत्री संतोष यादव ने अतिथियों एवं प्रतिभागी संवाददाताओं का धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम का संचालन शिवकरन द्विवेदी ने किया।

इसे भी पढ़े  बड़े भाई की हत्या में दो भाई सहित पिता के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का मुकदमा दर्ज

इस मौके पर पत्रकारिता के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए जीतेंद्र श्रीवास्तव, योगेश यादव, असगर नकी और आशुतोष मिश्र को प्रभात रंजन दीन ने प्रशंसा चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। दिनेश दुबे, अब्दुल सत्तार, दिनकर श्रीवास्तव, जीतेंद्र श्रीवास्तव, केके तिवारी, सतीश तिवारी, डॉ राज किशोर सिंह, रमाकांत बरनवाल, निसार अहमद, जावेद अहमद विवेक बरनवाल, डॉ आकृति अग्रहरि, राकेश तिवारी, पंकज पांडेय, पवन पांडेय, सरफराज, अजहर हुसैन, अब्दुल सत्तार, साकिब, इंद्रजीत यादव, दयाशंकर गुप्ता, अनिल गुप्ता, सुभाष पाठक, अमित पांडे, अनिरुद्ध चौरसिया, राजबहादुर यादव, राजेंद्र यादव, रोहित पाठक, भूपेश पांडे, अश्विनी सिंह, शिवशंकर पांडेय सहित अनेक पत्रकार कार्यक्रम में सम्मिलित हुए।

 

Advertisements

Comments are closed.