in

रंजिशन महाविद्यालय प्रशासन ने फर्जी फंसाया: शुभेन्द्र प्रताप सिंह

प्रकरण की निष्पक्ष जांच करायें कुलपति व डीएम

अयोध्या। साकेत महाविद्यालय प्रशास ने रंजिशन दुव्यवहार का आरोप लगाते हुए एफआईआर दर्ज कराकर फंसाया है। यह आरोप अवन्तिका सभागार में आयोजित पत्रकार वार्ता में साकेत महाविद्यालय छात्रसंघ के पूर्व उपाध्यक्ष शुभेन्द्र प्रताप सिंह ने लगाया।
उन्होंने कहा कि परीक्षा कक्ष में कुछ लोग नकल कर रहे थे जब कक्ष निरीक्षक से उन्होंने शिकायत की तो नकलची छात्रों के विरूद्ध कार्यवाही करने की बजाय उनपर ही दुव्यवहार करने और कार पर पत्थर फेंकने का आरोप लगा मुकदमा कायम करा दिया गया। पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया तथा जमानत पर छूटने के बाद वह अपना पक्ष रख रहे है। उन्होंने का कि हम डा. राममनोहर लोहिया अवध विवि के कुलपति और जिलाधिकारी से मांग करते हैं कि प्रकरण की निष्पक्ष जांच कराकर उन्हें न्याय दिलाया जाय। घटना का जो समय बताया जा रहा है उस समय वह श्रीराम चिकित्सालय में इलाज कराने गये थे। कक्ष व चिकित्सालय में लगे सीसी टीवी फुटेज की जांच करायी जाय तो यह स्पष्ट हो जायेगा कि उन्होंने किसी के साथ भी दुव्र्यवहार नहीं किया है। यदि फर्जी मुकदमा वापस न लिया गया तो वह आन्दोलन करने पर विवश हो जायेंगे। पत्रकार वार्ता में छात्रनेता विशाल सिंह, राजहंस मिश्रा, अंकुर सिंह, अखण्ड सिंह, अखिलेश, रोहित शर्मा, विशाल तिवारी, आनन्द सिंह आदि मौजूद रहे।

इसे भी पढ़े  छात्र-छात्राओं की कैंटीन की मांग कुलपति ने पूरी की

What do you think?

Written by Next Khabar Team

अन्तर्जनपदीय तीन पशु चोर चढ़े पुलिस के हत्थे, दो फरार

वोटर सेल्फी प्वाइंट व हस्ताक्षर अभियान का हुआ उद्घाटन