The news is by your side.

पेंशनरों की समस्याओं का समयबद्ध करें समाधान : जिलाधिकारी

कलेक्ट्रेट में  बनेगा पेंशनर भवन

अयोध्या। शासन के निर्देशानुसार  मण्डलायुक्त कार्यालय परिसर में स्थित गांधी सभागार में आयोजित पेंशनर दिवस में जिलाधिकारी डा0 अनिल कुमार ने पेंशनरों की समस्याओं को सुनकर उनका समयबद्ध एवं सार्थक समाधान कराने के निर्देश दिये। उन्होनें कहा कि जिन समस्याओं का निस्तारण जिलाधिकारी स्तर पर नहीं हो पायेगा उनका निस्तारण शासन स्तर से यथाशीघ्र कराया जायेगा। जनपद में वर्ष की प्रत्येक तिमाही की 17 तारीख अर्थात् 17 मार्च, 17 जून, 17 सितम्बर को मिनी पेंशनर दिवस होगा। जिसमें पेंशनर की समस्याओं का समाधान किया जायेगा। उन्होनें मुख्य कोषाधिकारी विनय कुमार राय को पेंशनर की समस्याओं के लिए अलग से पेंशनर रजिस्ट्रर बनाने और इसमें पेंशन से सम्बन्धित मामलो को दर्ज कर प्रत्येक 15 दिनों पर अवगत कराने तथा जिन मामलो का निस्तारण नही हो पाये उससे भी अवगत कराने के निर्देश दिये। उन्होनें कहा कि समस्याओं को नोट कर प्रत्येक समस्या के समाधान का समय निर्धारित करें और निर्धारित समय में सम्बन्धित अधिकारी उसका निराकरण करें।
जिलाधिकारी ने कहा कि कलेक्ट्रेट में पेंशनर भवन बनेगा, इसी हफ्ते प्रपोजल शासन में भेज दिया जायेगा। उन्होनें कहा कि कोई भी पेंशनर कभी भी अपनी समस्याओं को लेकर स्वंय या संघ के माध्यम से सम्पर्क कर सकता है। उन्होनें कहा कि सभी अधिकारी/कर्मचारी बड़े बुजुर्गों, महिलाओं का सम्मान करें, किसी के साथ अभ्रदता न करें, ऐसा करने वालो को बक्शा नही जायेगा। चिकित्सालयों व अन्य स्थानो पर जहां भीड़ ज्यादा हो वहां वरिष्ठ नागरिकों को प्राथमिकता देते हुये अलग से कॉउण्टर तथा बैठने के लिए बेंच की व्यवस्था करने के निर्देश दिये। सभी विभाग पेंशनर्स से सम्बन्धित मामलो को यथाशीघ्र निस्तारित करें। इस अवसर पर मुख्य कोषाधिकारी विनय कुमार राय ने कहा कि पेंशनर दिवस का मुख्य उद्देश्य पेंशनरो की सामान्य सामुहिक समस्याओं का त्वरित निस्तारण करना है। उन्होनें बताया कि अयोध्या जनपद में कुल 18,121 पेंशनर है। नियमित पेंशन प्रतिमाह पहली तारीख को खाते में अन्तरित कर दी जाती है, जिस पर लगभग 32 करोड़ धनराशि का व्यय होता है। दिनांक 01 जनवरी 2016 से पूर्व सेवानिवृत्त पेंशनरों के पेंशन पुनरीक्षण माह अक्टूबर तक प्राप्त प्रकरणों का अवशेष भुगतान कर दिया गया है, नवम्बर में प्राप्त पुनरीक्षण प्रकरण का भुगतान इसी माह के अन्त तक कर दिया जायेगा। उन्होनें बताया कि जीवित प्रमाण-पत्र, डिजीटल एवं स्वंय उपस्थित होकर बैंक या कोषागार में जमा कर सकते है। 1700 पेंशनर की पेंशन जीवित प्रमाण-पत्र के आभाव में माह नवम्बर की पेंशन का भुगतान नही हो पाया है, अतः जिनका जीवित प्रमाण-पत्र नही पहुंचा है वे पेंशनर शीघ्र जीवित प्रमाण-पत्र उपलब्ध करायें। कैशलेस चिकित्सा हेतु पेंशनरो के लिए हेल्थ कार्ड का प्रावधान है। अभी तक 980 पेंशनरो के ही हेल्थ कार्ड बने हैं। उन्होनें अनुरोध किया कि अधिक से अधिक संख्या में पेंशनर हेल्थ कार्ड बनवायें। उन्होने कहा कि आयकर विभाग के निर्देशानुसार जो भी पेंशनर आयकर के दायरे में आते है वे प्रतिमाह नियमित आयकर की कटौती कराना सुनिश्चित करें।

Advertisements
Advertisements

Comments are closed.