The news is by your side.

रामनवमी पर रात्रि 11 बजे तक हो सकेंगे रामलला के दर्शन : चम्पत राय

-भोर में 3ः30 बजे से देर रात तक शृंगार एवं दर्शन साथ-साथ चलते रहेंगे

अयोध्या।श्रीरामलला मंदिर में दर्शन करने आने वाले श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए रामनवमी पर रात्रि 11 बजे तक दर्शन हो सकेंगे। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महासचिव चम्पत राय ने इस संबंध में जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि श्रीराम नवमी महोत्सव के दौरान मंगला आरती के पश्चात ब्रह्म मुहूर्त में अति प्रातः 3ः30 बजे से अभिषेक, शृंगार एवं दर्शन साथ-साथ चलते रहेंगे।

Advertisements

श्रंगार आरती प्रातः 5ः00 बजे होगी, श्री रामलला का दर्शन एवं सभी पूजा-विधि यथावत साथ-साथ चलती रहेंगी। भगवान को भोग लगाने के लिए समय-समय पर अल्प-काल को पर्दा रहेगा। रात्रि 11ः00 बजे तक दर्शन का क्रम पूर्ववत चलता रहेगा, तत्पश्चात परिस्थिति अनुसार भोग एवं शयन आरती होगी।

तीर्थ क्षेत्र की ओर से बताया गया कि रामनवमी पर शयन आरती के पश्चात मन्दिर निकास मार्ग पर प्रसाद मिलेगा। दर्शनार्थी अपना मोबाइल, जूता, चप्पल, बड़े बैग एवं प्रतिबंधित सामग्री आदि मंदिर से दूर सुरक्षित रखकर आएं। बताया कि दिनांक 16, 17, 18 एवं 19 अप्रैल को सुगम दर्शन पास, वीआईपी दर्शन पास, मंगला आरती पास, श्रंगार आरती पास एवं शयन आरती पास नहीं बनेंगे।

सुग्रीव किला के नीचे, बिड़ला धर्मशाला के सामने, श्री रामजन्मभूमि प्रवेश द्वार पर ’श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र’ द्वारा यात्री सेवा केन्द्र बनाया गया है जिसमें जन-सुविधाएं उपलब्ध हैं। श्री राम जन्मभूमि मन्दिर में संपन्न होने वाले सभी कार्यक्रमों का सजीव प्रसारण अयोध्या नगर निगम क्षेत्र में लगभग 80 से 100 स्थानों पर एलईडी स्क्रीन लगाकर दिखाया जाएगा। यह कार्य प्रसार भारती द्वारा श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र की ओर से श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए किया गया है। इसका सीधा प्रसारण उपलब्ध रहेगा।

इसे भी पढ़े  अम्बेडकर नगर लोकसभा क्षेत्र में चुनाव की तैयारियां पूरी

राम मंदिर निर्माण समिति के अध्यक्ष नृपेंद्र मिश्र ने बताया कि रामनवमी पर भगवान रामलला के ललाट पर सूर्य किरण 12ः16 मिनट के करीब 5 मिनट तक पड़ेगी, इसके लिए महत्वपूर्ण तकनीकी व्यवस्था की जा रही है। वैज्ञानिक इस अलौकिक पलों को पूरी भव्यता से प्रदर्शित करने के लिए जुटे हुए हैं।

दिसंबर 2024 तक पूरा हो जाएगा राम मंदिर का बचा हुआ कार्य

-राम जन्मोत्सव की व्यवस्था की निगरानी के लिए यहां पहुंचे राम मंदिर निर्माण समिति के अध्यक्ष नृपेंद्र मिश्र ने सोमवार को दावा किया है कि श्रीराम जन्मभूमि परिसर में रामलला का मंदिर इस वर्ष दिसंबर तक पूरा हो जाएगा।

उन्होंने कहा कि मंदिर का संपूर्ण परकोटा और श्रद्धालुओं के लिए सुविधा केंद्र सहित राम मंदिर से जुड़े सभी कार्य इसी वर्ष 2024 के दिसंबर तक पूर्ण हो जाए उन्होंने कहा रामनवमी मेले के पर प्रशासन और श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट समन्वय करके श्रद्धालुओं के लिए रामलला के दर्शन की सरल और सुलभ व्यवस्था देंगे, क्योंकि हमारी प्राथमिकता है कि अयोध्या पहुंचने वाले श्रद्धालुओं को किसी भी प्रकार की समस्या का सामना न करना पड़े।

बता दे कि राम मंदिर निर्माण समिति के अध्यक्ष नृपेंद्र मिश्र राम जन्मोत्सव की व्यवस्था की निगरानी के लिए यहां पहुंचे हैं।बता दें कि रविवार को उन्होंने श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय के साथ परिसर में तैयारियों का स्थलीय निरीक्षण भी किया है।

हनुमानगढ़ी में दर्शन-पूजन का जारी हुआ नया शेड्यूल

अयोध्या। रामनवमी को देखते हुए हनुमानगढ़ी के गद्दी नशीन महंत प्रेमदास की ओर से दर्शन-पूजन का नया शेड्यूल जारी किया गया है। यह शेड्यूल आज से लागू किया गया है। 15 अप्रैल से 18 अप्रैल तक के लिए जारी शेड्यूल के अनुसार हनुमानगढ़ी पर सुबह 3ः00 बजे से 4ः00 बजे तक हनुमंतलला का होगा आरती पूजन व श्रृंगार, प्रातः 4ः00 बजे से दर्शनार्थियों का प्रवेश शुरू हो जाएगा।

इसे भी पढ़े  अयोध्या के विभिन्न प्रमुख कॉरिडोरो को फूलों से सजाने की पहल

दोपहर 12ः00 से 12ः20 तक मंदिर का पट बंद रहेगा, भोग और आरती के लिए प्रतिबंधित रहेगा दर्शन प्रवेश, शाम 3ः00 बजे से 3ः20 तक आरती पूजा के लिए बंद किया जाएगा दर्शन, संध्या आरती के लिए रात्रि 10ः00 बजे से 10ः30 बजे तक श्रद्धालुओं का प्रवेश बाधित रहेगा। रात 11ः30 पर हनुमानगढ़ी पर होगी शयन आरती, शयन आरती के बाद हनुमानगढ़ी बंद कर हो जाएगी। जबकि रामनवमी के दिन श्रद्धालुओ के लिए विशेष व्यवस्थाएं लागू रहेंगी।

रामनवमी 17 अप्रैल को रात 2ः30 बजे से 3ः30 बजे तक हनुमानजी का पूजन और आरती और श्रृंगार होगा। दर्शन के लिए सुबह 3ः30 पर दर्शनार्थियों का प्रवेश शुरू हो जाएगा। दोपहर 11ः45 से 12ः20 तक श्री राम के जन्म आरती के लिए हनुमानगढ़ी का कपाट बंद रहेगा, रामनवमी को सांयकाल काल की आरती 3ः00 से 3ः20 तक होगी। रात 10ः00 बजे 10ः30 बजे तक होने वाली संध्या आरती में श्रद्धालुओं का प्रवेश बंद रहेगा। रात 11ः30 बजे हनुमान लला का पट आमजन के लिए बंद हो जाएगा।

Advertisements

Comments are closed.