राज्य सभा सांसद संजय सिंह ने की कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन नीति बहाल करने की मांग 

आम आदमी पार्टी सांसद  संजय सिंह ने सरकारी कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन बहाली की राज्य सभा के सदन में की अपील

Advertisement

नेक्स्ट ख़बर ब्यूरो।  आप राज्य सभा सांसद संजय सिंह ने आज सदन में स्पेशल मेंशन नोटिस के ज़रिये केंद्र सरकार से सरकारी कर्मचारियों को एनपीएस से आ रही परेशानियों का संज्ञान लेने तथा पुरानी पेंशन स्कीम पुनः लागू करने का अनुरोध किया। श्री संजय सिंह ने सरकार से अनुरोध में कहा कि कर्मचारियों की पेंशन शेयर मार्किट इन्वेस्टमेंट से ना तो कोई लाभ होगा तथा शेयर मार्केट के उतार चढ़ाव उनकी जमा-पूँजी के लिए जोखिम भरी साबित होगी। 2004 के बाद नियुक्त हुए सरकारी कर्मचारियों के लिए पुरानी पेन्शन बंद कर दी गयी है, अथवा नयी पेन्शन स्कीम के मुताबिक़ उनकी आय का दस प्रतिशत हिस्सा प्राइवट कम्पनियों द्वारा शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करने का प्रावधान लागू कर दिया गया है।

      आम आदमी पार्टी के  प्रदेश प्रवक्ता सभाजीत सिंह ने बताया कि सांसद संजय सिंह ने इस पेन्शन स्कीम को सरकारी कर्मचारियों के खिलाफ़ अन्याय बताया| एनपीएस के अनुसार, एक कर्मचारी इस्तीफा देने के बाद भी सेवानिवृत्ति तक इस संचित फंड के 20% से अधिक नहीं निकाल सकता है अथवा तीन साल की सर्विस के बाद ही वह बहुत ही गम्भीर स्थितियों में अपने योगदान का 25% हिस्सा वापस ले सकता है|

    उन्होंने कहा “एनपीएस के मुताबिक़, रिटायअर्मेंट के बाद मिलने वाली 60% धनराश कर योग्य होगा एवं उसके अलावा 40% कॉर्पस अनिवार्य रूप से एक वार्षिकी खरीदने के लिए उपयोग किया जाना चाहिए। ऐसे में किस व्यवस्था के हित के लिए काम किया जा रहा है – सरकारी कर्मचारी या प्राइवट कम्पनियाँ?”
      श्री संजय सिंह ने सदन में काफ़ी समय से एनपीएस  के ख़िलाफ़ लड़ाई लड़ रहे विभिन्न कर्मचारी संगठनों का प्रतिनिधित्व करते हुए कहा कि अभी तक सरकार की तरफ़ से उनके कल्याण के लिए कोई क़दम नहीं उठाया गया है इसलिए सरकारी कर्मचारियों के हित के लिए 2004 से पहले की पेंशन को बहाल किया जाए|  प्रदेश प्रवक्ता सभा जीत सिह ने कहा कि पार्टी पेंशन की मांग को लेकर कर्मचारियों के आंदोलन का पूरा समर्थन करती है ।
इसे भी पढ़े  पाक्सो एक्ट में वांछित गिरफ्तार