पुलिस आरक्षी को सरेआम दबंगो ने पीटा

    Advertisement

     

    फैजाबाद। योगी राज में भयमुक्त समाज देने का दावा उस समय खोखला साबित हुआ जब व्यस्ततम चैराहा देवकाली बाईपास पर सरेआम दबंग व उसके गुर्गे सरेआम पीटते रहे और लोग तमाशबीन बने रहे। ई-रिक्शा मालिक हरिओम गुप्ता निवासी बाकरगंज से महाराजगंज थाना में तैनात आरक्षी राजेश यादव जो मौके पर आरजेबी में तैनात है से मात्र रिक्शा पर बैठने को लेकर विवाद हो गया विवाद इतना उग्र हुआ कि सफेद कुर्ता पैजामा में लैस दबंगो ने आरक्षी को पीटना शुरू कर दिया। आरक्षी गुहार लगाता रहा मगर उसे बचाने कोई भी शख्स सामने नहीं आया।

    पुलिस सिपाही की पिटाई का मुख्य आरोपी भेजा गया जेल

    अयोध्या कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक विनोद बाबू मिश्रा ने बताया कि आरोपी हरिओम मिश्रा बाकरगंज बाजार का निवासी है और वह आॅटो तथा ई-रिक्शा चलवाता है। मामला प्रकाश में आने के बाद पुलिस ने मुख्य आरोपी हरिओम गुप्ता को गिरफ्तार कर लिया तथा फरार उसे दो तीन अन्य साथियों की पहचान और तलाश की जा रही है। उन्होंने बताया कि मुख्य आरोपी हरिओम गुप्ता के विरूद्ध आईपीसी की धारा 232, 353, 322, 504 व 506 के तहत मुकदमा कायम कर उसे जेल भेज दिया गया है।
    महज एक टैक्सी वाहन में बैठने के विवाद को लेकर देवकाली बाईपास चैराहे के पास सरेआम पुलिसकर्मी को दबंगों ने जमकर पीटा और अभद्र गालियां दी। यह पूरा तमाशा काफी देर तक चलता रहा और लोग मोबाइल पर वीडियो बनाते रहे लेकिन कोई भी इस पुलिसकर्मी को बचाने के लिए आगे नहीं आया। करीब आधा दर्जन लोगों के द्वारा पीटा जा रहा यह पुलिसकर्मी हाथ जोड़कर रहम की भीख मांगता रहा लेकिन पीटने वाले लोग अपशब्दों की बौछार करते हुए सिपाही को पीटते रहे। मामला तब सामने आया जब सिपाही की पिटाई का लाइव वीडियो वाट्सप और अन्य सोशल माध्यमों पर वायरल हो गया। वीडियो वायरल होने के बाद पिटाई के शिकार पुलिसकर्मी की पहचान महाराजगंज थाने में तैनात कांस्टेबल राजेश यादव के रूप में हुई जो इस समय अयोध्या के राम जन्मभूमि परिसर की सुरक्षा में तैनात है। बताया जाता है कि थाने से चलकर सिपाही देवकाली ओवरब्रिज चैराहे के पास पहुंचा जहां पर वह अयोध्या जाने के लिए वाहन बदल रहा था। इसी दौरान ई-रिक्शा टैक्सी में बैठने को लेकर कुछ लोगों से उसकी कहासुनी हो गई और उसके बाद करीब आधा दर्जन दबंगों ने सिपाही को जमीन पर गिरा कर बुरी तरह पीटना शुरू कर दिया। घटना के समय सैकड़ों की संख्या में राहगीर घटनास्थल पर मौजूद थे। पिटाई के वीडियो में कुर्ता पजामा पहने एक शख्स प्रमुख रूप से सामने आ रहा था जबकि कुछ लड़के सिपाही की पिटाई कर रहे थे। पुलिस ने इस मामले में हरिओम गुप्ता को हिरासत में ले लिया जबकि अन्य युवक फरार हो गए।