रोपित पौधों का सेटेलाइट से होगा सर्वे

पौधरोपण के लक्ष्य को पूरा करने के लिये जिलाधिकारी ने की बैठक

फैजाबाद। जनपद में शासन द्वारा आवंटित व वर्ष 2018-19 के पौधरोपण के लक्ष्य को पूरा करने के लिये विकास भवन के सभाकक्ष में सभी विभागो के अधिकारियों के साथ की बैठक। बैठक में जिलाधिकारी डा0 अनिल कुमार ने सरकार के लक्ष्य को पूर्ण करने के लिये सभी विभागो के अधिकारियो को निर्देश दिये कि ये सभी प्रथम चरण में स्थल का चयन करके वन विभाग को उपलब्ध कराये और पौधो की आवश्यक्ता के अनुसार उपलब्धता सुनिश्चित कर ले। उन्होंने कहा कि लक्ष्य की प्रप्ति के लिए पौध रोपण के लिए गड्डा मनरेगा द्वारा खुदवा ले। 15 अगस्त के दिन पौध रोपण स्थल पर स्वंय सहायता समूह की महिलाओ को ले जाकर उनके द्वारा कम से कम एक फलदार वृक्ष रोपित कराना सुनिश्चित करे। जिलाधिकारी ने कहा कि वृक्षारोपण में कोई गलत रिर्पोटिंग नही होगी इसका जीओ टेग हो रहा है और सर्वे सेटेलाइट द्वारा किया जायेगा कोई भी गलत रिर्पोटिंग पकड़े जाने पर संबंधित विभाग के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जायेगी। डीएफओ रवि कुमार ने बताया कि उ0प्र0 शासन ने वर्षाकाल 2018 में जुलाई माह से सितम्बर तक अन्र्तविभागीय समन्वय व जनसहभागिता एवं समाज के विभिन्न वर्गो के एकजुट प्रयास से प्रदेश भर में अभियान के तहत 9 करोड़ वृक्षारोपण का लक्ष्य है। जिसमें वन एवं वन्यजीव विभाग द्वारा हरितिमा अभियान के अन्तर्गत 4 करोड़ एवं शेष 5 करोड़ पौधरोपण अन्य समस्त 20 विभागों द्वारा किया जायेगा। जिसमें  वन विभाग का 1014698 वृक्षो का, ग्राम्य विकास विभाग को 548151 वृक्ष, पंचायती राज को 317243, राजस्व विभाग को 317243, आवास विकास को 7680, औद्योगिक विकास को 6654, नगर विकास को 15360 , लोक निर्माण को 14357, सिंचाई को 13320, कृषि विभाग को 10334, पशुपालन विभाग को 5320 , सहकारिता विभाग को 4880, उद्योग विभाग को 8480, विद्युत को 5320, मा0 शिक्षा को 8013, वेसिक शिक्षा को 5507, प्राविधिक शिक्षा 4847, उच्च शिक्षा 6653, श्रम को 4013, स्वास्थ्य को 7987, परिवहन को 3680, रेलवे को 5987, रक्षा को 7360, उद्यान को 31333 व पुलिस विभाग को 7680 वृक्षो कुल 23,84,400 वृक्षो के रोपण का लक्ष्य है। जिसका 80 प्रतिशत कुल 14,00,172 वृक्षो के रोपण का लक्ष्य 15 अगस्त 2018 को है। उन्होंने कहा कि सभी विभागो माइक्रो लेवल पर प्लान बना ले कौन कर्मचारी पौधा लगायेगा कौन उनका पर्यवेक्षण अधिकारी होगा आदि पहले से ही सुनिश्चित कर ले।
       बैठक में पशु चिकित्साधिकारी और सीएमओ के अनुपस्थित होने पर जिलाधिकारी ने स्पष्टीकरण मांगने के निर्देश दिये। इस मौके पर मुख्य विकास अधिकारी अक्षय त्रिपाठी, वन संरक्षक केसी वाजपेयी, डीएफओ रवि सिंह, डीडीओ हवलदार सिंह, बीएसए अमीता सिंह, डीसी मनरेगा एवं अन्य संबंधित विभागो के अधिकारी उपस्थित थे।
इसे भी पढ़े  ट्रक से चोरी हुआ चावल बरामद, ड्राइवर ने ही बेंचा था चावल