लॉक डाउन : दिहाड़ी मजदूरों व गरीबों के लिए मुसीबत

नियम अवज्ञा करने वालों को रोंककर पुलिस ने लगायी फटकार

Advertisement

अयोध्या। लॉक डाउन के नियमों को तोड़ने वाले और अनावश्यक सड़कों पर बाइक से घूम रहे लोगों को पुलिस ने रोंककर पूंछतांछ करते हुए फटकार लगाया। वहीं दूसरी ओर अघोषित कर्फ्यू ने दिहाड़ी मजदूरों और गरीबों की मुसीबतों ने इजाफा कर दिया है। नवरात्रि व्रत पर्व का पहला दिन होने के बावजूद बुधवार को किसी भी माता के मन्दिर के कपाट भक्तों के लिए नहीं खुले। शहर में रोजी-रोटी के लिए आये दिहाड़ी मजदूर का कामकाज ठप्प हो जाने के बाद उनके सामने आजीविका का जबरदस्त संकट आ गया है। असुरक्षित स्थान पर निवास कर रहे मजदूरों ने बुधवार को अपने घरों की ओर पैदल ही प्रस्थान करना शुरू कर दिया। कोरोना संक्रमण के फैलते प्रसार ने भी मजदूरों की नींदे उड़ा डाली है। अधिकांश मजदूरों का मानना है कि वह अपने गांव के घरों में जहां इस महामारी से सुरक्षित रहेंगे वहीं सकून की दो रोटी उन्हें मिलते रहेगी यहां रहने पर तो भूंखों मरने की नौबत आ गयी है।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देशवासियों को दिये संदेश में जैसे ही 21 दिन का लॉकआउट जिसे उन्होंने कर्फ्यू जैसा ही पूरे देश में लागू करने की घोषणा किया वैसे ही आमजनों की घबराहट तेज हो गयी। वाहनों के परिचालन को पहले ही बंद कर दिया गया था और लम्बे समय तक बंद रहने की सम्भावना को लेकर यात्री वाहन मालिकों और चालकों के पेशानियों पर बल चढ़ गया। दूसरी ओर पुलिस ने भी अघोषित कर्फ्यू को सफल बनाने की रणनीति को अन्तिम रूप देना शुरू कर दिया है। बुधवार को सुबह से ही पुलिस की रणनीति दिखाई पड़ने लगी। पुलिस ने ध्वनि विस्ताकर यंत्रों से लोगों को सड़क पर न घूमने और अपने-अपने घरों में चले जाने की हिदायत देना शुरू कर दिया। पुलिस यह भी घोषणा कर रही थी कि उन्हें किसी तरह की परेशानी नहीं होगी वह डायल-112 पर सूचना दें उनकी मांगी गयी वस्तुएं पुलिस उनके घर तक पहुंचा देगी। दूसरी ओर दवा, किराना, फल, सब्जी आदि की दूकाने पूर्ववत घुली रहीं और लोगों ने अपनी जरूरत के सामानों की खरीद फरोख्त किया। नवीन सब्जी मण्डी परिसर से साग सब्जियों से लदे वाहनों को हरी झण्डी दिखाकर जिलाधिकारी अनुज कुमार झा व एसएसपी आशीष तिवारी ने संयुक्त रूप से रवाना किया। यह वाहन नगर निगम क्षेत्र के मोहल्ला-मोहल्ला जायेंगे और लोगों को अपने घर के सामने ही सागभाजी खरीदने की सुविधा प्रदान करेंगे। दूसरी ओर नगर निगम प्रशासन ने कोरोना से बचाव के लिए नुक्कड़ चौराहों पर पानी के टैंक, हैण्डवाश आदि की व्यवस्था कर दी है जिससे आने जाने वाले लोग अपने हाथ की स्वच्छता बनाये रखें।

इसे भी पढ़े  असहायों की मदद के लिए युवाओ ने बढ़ाया हाथ

लॉकडाउन का साग सब्जी पर दिख रहा असर

मिल्कीपुर । कोरोना वायरस को लेकर किए गए लॉक डाउन का सीधा असर साग सब्जी पर दिख रहा है। गांव से सब्जियों के आवक कम होने के कारण भाव में अप्रत्याशित उछाल आया है। लोग ऊंचे भाव में सब्जियों की खरीदारी करने को विवश हैं। मंगलवार को कुमारगंज थाना क्षेत्र के पूरबगांव बाजार में हरी मिर्च का भाव सुनकर लोग हैरान हो गए। 40 से 50 रुपए किलो बिकने वाला हरा मिर्च का भाव 200 रुपए किलो पहुंच गया। वजह है कि बाजार में हरा मिर्च इक्का-दुक्का विक्रेताओं के पास ही रहा जिसके चलते ग्रामीणों को अधिक मूल्य पर मिर्च खरीदना पड़ा। वहीं 15 से 18 रुपये किलो बिक रहे आलू का भाव अब 20 रुपए किलो तक पहुंच गया है। सब्जी विक्रेताओं ने बताया कि मंडी में ग्रामीण क्षेत्र से काफी कम मात्रा में किसान सब्जी लेकर आ रहे हैं। वह अपने सब्जियों का मनमानी भाव मांग रहे हैं। फूल गोभी और पत्ता गोभी 20 से25 रूपए प्रति किलो बिक रहा था लेकिन इस समय 35 से 40 रुपए प्रति किलो, बैगन 30 रूपए से बढ़कर 40 रूपए, टमाटर 15 रूपए से बढ़कर 20 से 30 रुपए प्रति किलो बिक रहा है। इस तरह से अन्य सब्जियों का भाव भी बढ़ा हुआ है।