The news is by your side.

आय प्रमाण पत्र जारी कराने के नाम पर मनमानी कर रहा लेखपाल

-एसडीएम को शिकायती पत्र देकर पीड़ित ने की कार्यवाही गुहार

बीकापुर। तहसील क्षेत्र अंतर्गत लेखपाल क्षेत्र रतनपुर तेंदुआ पर तैनात लेखपाल द्वारा जरूरतमंद काश्तकार से सुविधा शुल्क के नाम पर दो हजार रुपए ऐंठ लिए जाने का मामला प्रकाश में आया है। क्षेत्रीय लेखपाल द्वारा सुविधा शुल्क लिए जाने के बावजूद भी आय प्रमाण पत्र पर अपनी रिपोर्ट निर्धारित समयावधि बीत जाने के बाद लगाई गई जिसके चलते काश्तकार की बेटी बाल विकास परियोजना विभाग में आंगनबाड़ी पद हेतु आवेदन पत्र प्रस्तुत नहीं कर सकी।

Advertisements

पीड़ित ने एसडीएम को शिकायती प्रार्थना पत्र सौंपकर क्षेत्रीय लेखपाल द्वारा सुविधा शुल्क के नाम पर वसूला गया दो हजार रुपए वापस दिलाए जाने व बेलगाम आरोपी लेखपाल के खिलाफ कार्यवाही किए जाने की मांग की है। प्राप्त जानकारी के अनुसार बीकापुर ब्लॉक में आंगनबाड़ी कार्यकत्री हेतु स्थान रिक्त था, जिस पर नियुक्ति हेतु आवेदन की अंतिम तिथि 16.04.2021 सुनिश्चित थी,आवेदन पत्र के साथ आय प्रमाण पत्र 46000 के नीचे प्रस्तुत करने मांग की गई थी जिस के क्रम में परशुराम मिश्रा निवासी नुवावां बैदरा ने अपनी पुत्री नेहा का आवेदन कराना चाहा,जिसमें निवास व आय प्रमाण पत्र हेतु 02/04/2021 को जनसेवा से आवेदन किया था,पीड़ित परशुराम मिश्रा का आरोप है कि हल्का लेखपाल से अपनी समस्या का वृतांत बताया,हल्का लेखपाल ने आय प्रमाण पत्र 40000 के नीचे बनाने हेतु 2 हजार रुपए सुविधा शुल्क की मांग किया तथा कहा कि मुझे अकेले नहीं लेना है,मुझे उच्चधिकारियों को भी देना पड़ता है।

उनका आरोप है कि वह हो मामूली शिक्षित है जो हल्का लेखपाल के झांसे में आकर किसी तरह से 2 हजार रुपए की व्यवस्था करके दे दिया,हल्का लेखपाल अनूप सिंह ने मेरी कमजोरी का नाजायज फायदा उठाते हुए आय प्रमाण पत्र 49000 का बना दिया जो बीते 16.04.2021 को अंतिम तिथि पर निर्गत किया गया जिसके चलते उसकी पुत्री आंगनबाड़ी कार्यकत्री की नौकरी के लिए आवेदन पत्र प्रस्तुत करने से वंचित रह गई।
पीड़ित ने उप जिलाधिकारी बीकापुर को दिए गए शिकायती पत्र के माध्यम से क्षेत्रीय लेखपाल द्वारा सुविधा शुल्क के के नाम पर की गई अवैध वसूली का पैसा वापस दिलाने की की मांग करते हुए आरोपी लेखपाल केे विरुद्ध कार्यवाही की मांग की है।

Advertisements

Comments are closed.