मजबूत आत्मबल के लिए सकारात्मक विचारों को आचरण में लाना सीखें

सेवा भारती : छात्रों से स्वास्थ्य संवाद

होम्योपैथी चिकित्सक डॉ. उपेन्द्र मणि त्रिपाठी ने दिए छात्रों के प्रश्नों के जवाब

अयोध्या। सेवा भारती अयोध्या महानगर के स्वास्थ्य प्रकल्प द्वारा स्कूली छात्रों मे संवाद से समाधान कार्यक्रम के जरिये के पी पब्लिक स्कूल में होम्योपैथी चिकित्सक डॉ उपेन्द्रमणि त्रिपाठी ने छात्र छात्राओं से उनके स्वास्थ्य सम्बन्धी जिज्ञासाओं पर वार्ता कर प्रश्नों के सरल जवाब दिए।अधिकतर प्रश्न यादाश्त बढ़ाने, लम्बाई बढ़ाने, सर्दी, खांसी, बुखार, दस्त, खुजली ,कठिन विषय, व पढ़ाई, परीक्षा ,या टीचर से प्रश्न पूछने के डर को लेकर थे।डॉ उपेन्द्रमणि ने बच्चों को बताया हम बचपन मे जिस तरह एकसाथ उठते बैठते पढ़ते भोजन आदि करते हैं नई चीजें सीखते हैं वैसे ही हमे पढ़ी गयी अच्छी बातों और विचारों को अपने आचरण में दिनचर्या में लाना चाहिए इससे हमारा डर धीरे धीरे दूर होगा, आत्मविश्वास बढ़ेगा,इच्छाशक्ति प्रबल और मजबूत आत्मबल होगा जिससे भविष्य में हमारी मानसिक क्षमता मजबूत होगी और विषम परिस्थितियों का समाधान खोज पाने में आसानी होगी, इस तरह स्वस्थ मन से स्वस्थ तन का विकास होगा।
बालो में रूसी के बारे में पूछने पर डॉ त्रिपाठी ने एक छात्रा को घरेलू उपाय सुझाया, तो बार बार सर्दी जुकाम के लिए बच्चों को प्राणायाम सिखाया।सर्दियों में गुनगुना पानी पीने, नियमित स्नान और शरीर पर तेल मालिश की भी जानकारी दी। प्रो डॉ आभा सिंह ने कहा बच्चे ही भविष्य के युवा है इनके स्वास्थ्य व शिक्षा का ध्यान रखकर भविष्य के स्वस्थ भारत की कल्पना को साकार रूप दे सकते हैं। डॉ प्रेमचन्द्र पांडेय ने बताया छात्रों में स्वास्थ्य शिक्षा को आवश्यक मानते हुए ही हम डॉ उपेन्द्रमणि की सरल शैली के साथ छात्रों के बीच नियमित जाते रहे हैं और इसके साथ युवा संवाद के जरिए व्यक्तित्व निर्माण कार्यशाला का भी भविष्य में आयोजन करने की योजना है। इस अवसर पर अध्यक्ष एच पी त्रिपाठी, रमेश पांडेय, डॉ सौरभ , अमोल, विद्यालय के प्राचार्य, शिक्षक, शिक्षिकाएं, छात्र छात्राएं उपस्थित रहे।

इसे भी पढ़े  अनुशासन के लिए जानी जाती है एनसीसी : प्रो. रविशंकर सिंह

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More