The news is by your side.

बढ़ती गर्मी से बच्चों व बुजुर्गों को बचाना जरूरी: डा. हरिओम श्रीवास्तव

सीएमओ ने बचाव के लिए दिये टिप्स

अयोध्या। मुख्य चिकित्साधिकारी डा. हरिओम श्रीवास्तव ने बताया कि दिन-प्रतिदिन गर्मी बढ़ रही है ऐसे में बच्चों के साथ उम्रदराज व्यक्तियों केे सेहत को सुरक्षित रखने की आवश्यकता है। उन्होंने बताया कि बढ़ते तापमान से बचाव के लिए गर्म हवा की स्थिति जानने के लिए रेडियो सुने, टीवी देखे, समाचार पत्र पर स्थानीय मौसम पूर्वानुमानकी जानकारी लेंते रहें। पानी ज्यादा पियें ताकि शरीर मंे पानी की कमी से होने वाली बीमारी से बचा जा सके। हल्के, ढीले-ढीले सूती वस्त्र पहनें, ताकि शरीर तक हवा पहुंचे और पसीने को सोख कर शरीर को ठंडा रखें। धूप में बाहर जाने से बचें, अगर बहुत जरूरी हो तो धूप के चश्में छाता, टोपी एवं जूते या चप्पल पहनकर ही घर से निकलें। यात्रा करते समय अपने साथ बोतल में पानी जरूर रखें गर्मी के दिनों में ओआरएस का घोल पियें। अन्य घरेलू पेय जैसे-नींबू पानी, कच्चे आम का पानी, लस्सी आदि का प्रयोग करें जिससे शरीर में पानी की कमी न हो। गर्मी से उत्पन्न होने वाले विकारों, बीमारियों को पहचानें। तखलीफ होने पर तुरंत चिकित्सकीय परामर्श लें। जानवरों को छायेदार स्थान में रखें, उन्हें पीने के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी दें। अपने घर को ठंडा रखें, घर को ढक कर या पेंन्ट लगाकर 3-4 डिग्री तक ठंडा रखा जा सकता है। कार्यस्थल पर पानी की समुचित व्यवस्था रखें।
उन्होंने बताया कि गर्मी से बचाव के लिए धूप में खड़े वाहनों में बच्चों एवं पालतू जानवरों को न छोडें। दिन के 11 बजे से 3 बजे के बीच बाहर न निकले। गहरे रंग के भारी एवं तंग वस्त्र पहनने से बचें। खाना बनाते समय कमरे के दरवाजे के खिड़की एवं दरवाजे खुलें रखे जिससे हवा का आना-जाना बना रहे। नशीले पदार्थ, शराब तथा अल्कोहल के सेवन से बचें। उच्च प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ का सेवन करने से बचें। बासी भोजन न करें।

Advertisements
Advertisements

Comments are closed.