धमकाकर वसूली करने वाला सिपाही सस्पेंड

मिल्कीपुर-मिल्कीपुर। कुमारगंज थाने में तैनात एक सिपाही द्वारा धमकाकर रुपए वसूले जाने के मामले में पीड़ित युवक द्वारा कार्यवाही की गुहार किए जाने के मामले में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने आरोपी सिपाही विजय कुमार को सस्पेंड कर दिया है।
कुमारगंज थाना क्षेत्र के सराय धनेठी निवासी फूल चंद पासी पुत्र विजई पासी का आरोप लगाया था कि उसके घर बीते शनिवार 26 मई की अलसुबह कुमारगंज थाने में तैनात विजय सिपाही पहुंच गए थे। उसके घर के अंदर घुसकर तलाशी लिया था। तलाशी के दौरान उसके घर से अवैध शराब बरामद न होने के बावजूद भी उसे अपने साथ कुमार गंज थाने बैठा ले गए थे। थाने ले जाकर उसके घर से अवैध शराब की भट्टी एवं कच्ची शराब बरामदगी का आरोप लगाते हुए मुकदमे में जेल भेज दिए जाने की धमकी दी थी। सिपाही विजय ने फूलचंद से कहा था कि यदि मुकदमे से बचना है तो 7 हजार की व्यवस्था करो। इस पर उसने अपने घर पर मौजूद पिता से मजदूरी के रखे पैसे 4 हजार लेकर खाने पर बुला लिया था। काफी अनुनय-विनय के बाद विजय सिपाही ने उससे 4 हजार ऐंठ भी लिया था और 60 आबकारी अधिनियम के तहत गलत तथ्यों के आधार पर फर्जी वह मनगढ़ंत मुकदमा भी कायम करा दिया था। बीते गुरुवार को पीड़ित पिता पुत्र ने कुमारगंज थाने पहुंचकर थानाध्यक्ष श्रीनिवास पांडे से मनबढ़ सिपाही विजय की करतूतें बताते हुए धमका कर वसूला गया 4 हजार रुपए वापस दिलाए जाने की मांग की थी। पीड़ित युवक की व्यथा सुन थानाध्यक्ष श्रीनिवास पांडे ने सिपाही के खिलाफ कार्यवाही का भरोसा दिलाते हुए उसका पैसा भी वापस दिलाए जाने का आश्वासन दिया। कुमारगंज थानाध्यक्ष से शिकायत के बावजूद भी रूपए वापस न मिलने व सिपाही के खिलाफ कार्यवाही न होने से नाराज पीड़ित दलित युवक ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को शिकायती प्रार्थना पत्र भेजकर मामले में न्याय की गुहार की भी। वहीं दूसरी ओर मामले को सोशल मीडिया द्वारा उत्तर प्रदेश पुलिस के ट्विटर पोर्टल पर ट्वीट किए जाने के बाद पुलिस विभाग हरकत में आया था और शुक्रवार को थानाध्यक्ष कुमारगंज श्रीनिवास पांडे ने आरोपित सिपाही विजय कुमार को आरजेबी ड्यूटी हेतु रवाना कर दी थ थानाध्यक्ष ने आरोपी सिपाही के खिलाफ कार्यवाही के लिए एस एस पी को रिपोर्ट भेज दिया था। थानाध्यक्ष श्रीनिवास पांडे ने बताया कि मामले में आरोपी सिपाही विजय कुमार को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा निलंबित कर दिया गया है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More