in

सर्दी जुकाम के लिए एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग अनुचित : डा. उपेन्द्र मणि त्रिपाठी

सर्दियों में मातृ शिशु स्वास्थ्य पर सेवा भारती ने किया संवाद

अयोध्या । सेवा भारती अयोध्या महानगर के तत्वाधान में बाल उपवन पब्लिक स्कूल वजीरगंज में स्वास्थ्य परीक्षण एवं कार्यशाला का आयोजन किया गया जिसमें प्रथम सत्र में बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण एवं द्वितीय सत्र में बच्चों के अभिभावकों से स्वास्थ्य सम्बन्धी जिज्ञासाओं के समाधान हेतु संवाद स्थापित किया गया। विद्यालय की संचालिका मेनका सिंह ने बताया कि शिविर में होम्योपैथी चिकित्सा विकास महासंघ के होम्योपैथी विशेषज्ञ डॉ उपेन्द्रमणि त्रिपाठी द्वारा किये गए 40 से अधिक बच्चो के स्वास्थ्य परीक्षण मे ज्यादातर सर्दी जुकाम, सिरदर्द की प्रवृत्ति, पाचन , पोषण की कमी आदि समस्याएं मिली जिसके लिए द्वितीय सत्र में उपस्थित माताओं को जानकारी देते हुए कहा सामान्यतः मौसम बदलने पर बच्चों को सर्द हवा में खुले कान से बचाएं और अनावश्यक एंटीबायोटिक्स दवाओं का सेवन बिना किसी योग्य चिकित्सक की सलाह के न करें। छींक या सर्दी जुकाम सामान्यतः बच्चो में रोग प्रतिरोधी क्रियाएं हैं जो उचित देखभाल में 3 से 5 दिनों में स्वयं ठीक हो जाते है, भारत देश मे घरों में प्रयोग किये जाने वाले मसाले गिलोय, एलोवेरा, तुलसी, काली मिर्च, हल्दी, पिपली आदि
शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने वाले हैं जिनका संतुलित मात्रा में प्रयोग कई गम्भीर रोगों संक्रमण आदि से बचाव में सहायक है। भूख न लगने और कमजोरी के एक सवाल के उत्तर में डॉ उपेन्द्रमणि ने बताया सही बृद्धि एवं उचित विकास के लिए बच्चों को प्रोटीन की आवश्यकता होती है इसलिए प्रातः अंकुरित अनाज एवं दूध का सेवन करना चाहिए, धार्मिक, सांस्कृतिक प्रवृत्ति एवं आयोजनों में बच्चों की सहभागिता उनके मानसिक विकास में उपयोगी है।
इस अवसर पर महानगर मंत्री डॉ प्रेमचंद्र पाण्डेय , प्राचार्य सविता अग्रहरि, शिक्षिका बविता श्रीवास्तव, रेखा गौड़, राजेश गौड़, सविता निषाद, सरिता रावत एवं महिलाएं उपस्थित रहीं।

What do you think?

Written by Next Khabar Team

विश्व दिव्यांग दिवस पर 13 दिव्यांगों को दी गयी ट्राई साइकिल

सरकारी भूमि के अवैध कब्जों पर डीएम का तेवर सख्त