in ,

सरकारी भूमि के अवैध कब्जों पर डीएम का तेवर सख्त

समय पर शिकायतों का निस्तारण न करने वालों पर विफरे जिलाधिकारी

रूदौली। सम्पूर्ण समाधान दिवस के मौके पर मंगलवार को रूदौली तहसील में जिलाधिकारी डॉ. अनिल पाठक ने आये हुए फरियादियो की शिकायतों को गम्भीरता पूर्वक सुनते हुए अपने मातहतों को समय सन्तुष्टि व गुणवत्ता पूर्ण निस्तारण के आदेश दिए । पुरानी शिकायतों का समय से निस्तारण न होने पर उन्होंने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि जिस विभाग की ज्यादा समस्या होगी वही विभाग का सम्बन्धित अधिकारी जिम्मेदार होगा। इसलिए शिकायतकर्ता से विभागों के उच्च अधिकारी दूरभाष पर पूछें कि आपकी समस्या का समाधान हुआ कि नही। इसके अलावा सरकारी भूमि पर अवैध कब्जों पर भी जिलाधिकारी के तेवर सख्त दिखाई दिए। ज्यादातर मामले राजस्व ,पुलिस व विकास विभाग से दिखाई दिये।
जिलाधिकारी ने कहा कि सबसे ज़्यादा राजस्व के मामलो के निस्तारण में लापरवाही हो रही है ज़िला स्तरीय आख्याओं का विश्लेषण कर संतुष्ट हो तभी आगे बढ़ाएं। गलत आख्या प्रेषित करने वाले ज़िला स्तरीय अधिकारियो की ज़िम्मेदारी तय की जायेगी। उन्होंने कहा कि सम्पूर्ण समाधान दिवस आईजीआरएस पोर्टल से कनेक्ट है इसकी निगरानी मुख्य मंत्री कार्यालय से भी हो रही है। इसलिए कागज़ फाइल में इधर उधर घूमना नहीं चाहये। आख्या का सत्यापन अधिकारी शिकायतकर्ता से फोन कर करे। एक स्थान पर बैठ कर रिपोर्ट न भेजें। समय से गुणवत्ता से शिकायत का निस्तारण करे।उन्होंने बार बार भूमि सम्बन्धी प्रकरण आने से लेखपालो को चेतावनी भी दी।एक उदहारण देते हुए जिलाधिकारी ने बताया कि रूदौली नगर में आवारा कुत्तों से निजात दिलाने की शिकायत पर अधिशाषी अधिकारी ने मामले को टालने के लिए वन विभाग से सम्बंधित बता दिया जबकि मामला सीधे नगर पालिका से सम्बंधित ही है। अधिशाषी अधिकारी की अनुपस्थिति पर उन्होंने कार्यवाही के लिए भी कहा। इस अवसर पर हरौरा गुजरान के दोनों पैर से विकलांग राम सुरेश ने शौचालय निर्माण होने के बाद भी चेक न मिलने की शिकायत की जिसपर एडीओ पंचायत रूदौली को ग्राम पंचायय अधिकारी अजय यादव को तलब किया परन्तु हाज़िर न होने पर डीएम ने परियोजना अधिकारी को निलंबन की कार्यवाही का निर्देश दिया। वहीं लेखपाल राम वृक्ष मौर्या को शिकायत कर्ता को रोक कर शिकायती पत्र लेने पर कड़ी फटकार लगाई।नगर गांव के राजेंद्र प्रसाद ने ग्राम प्रधान द्वारा तालाब की भूमि पर अवैध निर्माण की शिकायत की।मुस्लिमुन निसा निवासी मख़्दूम ज़ादा रूदौली ने राष्ट्रीय पारिवारिक सहायता न मिलने व् सम्बंधित अधिकारी द्वारा गलत आख्या प्रस्तुत करने की शिकायत की।रइस अहमद शेखाना रूदौली ने दौरान मुक़दमा अन्य खातेदारो द्वारा अधिक भूमि पर क़ब्ज़ा करने की शिकायत की। राजेंद्र कुमार निवासी पस्ता माफ़ी ने अवैध रूप से पेड़ काटने की शिकायत की। पंचायत सेक्रेटरी सूरत सिंह कार्यो में लापरवाही के लिए प्रतिकूल प्रविष्ठि के लिए निर्देश दिया। सम्पूर्ण समाधान में कुल 206 मामले दर्ज किये गए जिनमे 6 मामलो का मौके पर ही निस्तारण कर दिया गया। इस अवसर पर उपजिलाधिकारी टीपी वर्मा,क्षेत्राधिकारी अमर सिंह,तहसीलदार शिव प्रसाद,कोतवाल विश्वनाथ यादव, थानाध्यक्ष मवई रिकेश सिंह,पटरंगा से उपनिरिक्षक सहिंत तमाम ज़िला स्तरीय अधिकारी व् कर्मचारी मौजूद रहे।
वहीं सम्पूर्ण समाधान के मौके पर जिलाधिकारी ने बगैर अनुमति के जिले स्तर के अधिकारियों को मुख्यालय छोड़ने पर पाबंदी लगा दी है । डीएम ने कहा कि विभाग के अधिकारियों से बताकर या बहाना बनाकर मुख्यालय छोड़ कर चले जाने वाले अधिकारियों पर कार्यवाही की जाएगी ।उंन्होने कहा कि बगैर मेरी अनुमति के कोई भी जिलास्तर का अधिकारी मुख्यालय नही छोड़ सकता । अगर कोई पाया गया तो कार्यवाही तय है ।

What do you think?

Written by Next Khabar Team

सर्दी जुकाम के लिए एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग अनुचित : डा. उपेन्द्र मणि त्रिपाठी

अयोध्या में भाईचारा तोड़ने वाले आयोजनों पर लगे रोंक : तेजनारायण