बेपटरी बेसिक शिक्षा विभाग में अध्यापकों की उपस्थित में सुधार

    • तारून व अमानीगंज ब्लाक में 96 अधिकारियों की टीम ने किया विद्यालयों का औचक निरीक्षण

    • कुल 41 अध्यापक मिले अनुपस्थित

    Advertisement

    फैजाबाद। जिलाधिकारी डा0 अनिल कुमार का प्रयास लाया रंग। बेपटरी बेसिक शिक्षा विभाग में अध्यापकों की उपस्थित में व्यापक सुधार। जिलाधिकारी जिस लगन व तत्परता से बेसिक शिक्षा विभाग मे अध्यापकों की उपस्थिति को सुधारने मे लगे थे उसमें बड़ी सफलता मिली।
    जिलाधिकारी डा0 अनिल कुमार ने आज 96 अधिकारियों की टीम बनाकर अपने कैम्प कार्यालय से प्रातः 7 बजे से विद्यालय के लिए रवाना किया। 36 अधिकारियों की टीम को तारून ब्लाक तथा 60 अधिकारियो की टीम को अमानीगंज ब्लाक के विद्यालयों को चेक करने के लिए गोपनीय रूप से भेजा गया। गोपनीयता इतनी थी कि इसकी खबर न तो अध्यापकों को थी और न ही बेसिक शिक्षा विभाग को। दोनो ब्लाक मिलाकर मात्र 41 अध्यापक अनुपस्थित मिलें, जिसमे 8 प्रधानाध्यापक, 21 सहायक अध्यापक, 8 शिक्षामित्र तथा 04 अनुदेशक शामिल है। जिलाधिकारी ने बताया कि देर सायं तक 172 विद्यालयों की निरीक्षण रिर्पोट कैम्प कार्यालय को प्राप्त हो गई है जिसमे 62 विद्यालय तारून के तथा 110 विद्यालय अमानीगंज के शामिल थे। ब्लाक अमानीगंज मे 4 प्रधानाध्यापक, 14 सहायक अध्यापक, 7 शिक्षामित्र तथा 03 अनुदेशक, जबकि तारून ब्लाक में 04 प्रधानाध्यापक, 07 सहायक अध्यापक, 01 शिक्षामित्र तथा 01 अनुदेशक अनुपस्थित मिले।
    जिलाधिकारी ने निरीक्षण रिर्पोट जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी श्रीमती अमिता ंिसंह को भेजते हुये अनुपस्थित अध्यापकों के एक दिन का वेतन काटने के साथ विभागीय कार्यवाही करने के निर्देश दिये है। जिलाधिकारी ने अध्यापको की शत्प्रतिशत उपस्थिति सुनिश्चित कराने तथा शिक्षा की गुणवत्ता बनाने के लिये निरीक्षण में भेजे गये अधिकारियों के प्रति आभार प्रकट करते हुये उन्हें सहयोग के लिए धन्यवाद ज्ञापित किया उन्होने बताया कि कैम्प कार्यालय पर प्रातः 7 बजे सहयोगी अधिकारियों को बुलाया जाता था, अमानीगंज, तारून, रूदौली, मवई आदि अति पिछड़े क्षेत्र से जिन अधिकारियों को आना था वे जिला मुख्यालय पर आने के लिए 5 बजे चल पड़ते थे और इसके लिए उन्हे प्रातः 3 या 4 बजे उठना पड़ता रहा होगा। उन्होनें गोपनीयता बनाये रखने तथा देर रात्रि तक निरीक्षण की रणनीति बनाने में अपने ओएसडी रामअचल की भी तारीफ की।
    उन्होनंे कहा कि आगे भी विद्यालयों, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रो व सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों व कार्यालयों का आकस्मिक एवं गोपनीय निरीक्षण चलता रहेगा। लोग यह न सोचे कि अब निरीक्षण नही होगा। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी श्रीमती अमिता सिंह ने जिलाधिकारी द्वारा कराये गये निरीक्षण को बेसिक शिक्षा विभाग के लिये अमूल्य चूल परिवर्तन वाला बताया। उन्होनें बताया कि जिलाधिकारी द्वारा कराये गये निरीक्षण से विद्यालयो की समस्याओं, कठिनाईयों जैसे चार दिवारी, शौचालय, शुद्ध पेयजल, विद्युत व्यवस्था, फर्नीचर आदि व्यवस्थाओं के बारे में जानकारी विभाग को प्राप्त हो गयी है। जिसे संकलित कर उसके निराकरण की शीघ्र कार्यवाही जायेगी।