संदिग्ध परिस्थितियों में किशोरी की मौत, परिजनों ने जला दिया शव

    • भाई की शिकायत पर पुलिस हुई सक्रिय

    • सौतेली मां व पिता पर जताया संदेह

    Advertisement

    बीकापुर । जहरीला पदार्थ खाने से 16 वर्षीय बालिका की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। परिजनों ने बालिका की मौत का मामला ग्रामीणों से छुपाते हुए गांव के कुछ लोगों के सहयोग से शव को ग्रामीणों की गैरमौजूदगी में आनन-फानन में सोमवार को भोर में ही जला दिया। मामले की सूचना पर कोतवाली पुलिस ने मृतक बालिका के घर पहुंच कर परिजनों के खिलाफ कार्यवाही शुरू कर दिया।
    प्राप्त जानकारी के अनुसार बीकापुर कोतवाली क्षेत्रांतर्गत ग्राम जैनपुर के मजरे श्याम का पुरवा निवासी राम सुभावन निषाद की 16 वर्षीय पुत्री रेशमा रविवार की रात अज्ञात कारण वश जहरीले पदार्थ का सेवन कर लिया। जिसे परिजनों ने रात में ही इलाज के लिए सीएससी बीकापुर पहुंचाया। जहां पर चिकित्सकों ने प्राथमिक इलाज के बाद बालिका की हालत गंभीर देख इलाज के लिए जिला अस्पताल रेफर कर दिया तथा सरकारी एंबुलेंस से जिला के लिए भिजवा दिया।
    ग्रामीणों के अनुसार परिजनों द्वारा गंभीरावस्था में भी बालिका को इलाज के लिए जिला अस्पताल ले जाने से मना कर दिया गया और रास्ते में ही एंबुलेंस को छोड़ दिया। जिससे रात में ही बालिका की मौत हो गई। किंतु विचारणीय एवं संदिग्ध अवस्था तब पैदा हुई जब परिजनों द्वारा मृतक बालिका का मामला ग्रामीणों से छुपाते हुए गांव के कुछ लोगों के सहयोग से सोमवार की भोर में ही शव को जला दिया गया।
    जबकि हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार किसी भी अविवाहित महिला या पुरुष के शव को जलाया जाना धर्म विरुद्ध माना जाता है। इतना ही नहीं किसी भी शव को सूर्यास्त के बाद एवं सूर्योदय के पहले जलाना धर्म विरुद्ध माना जाता है।
    सुबह मामले की जानकारी ग्रामीणों को होने पर तरह-तरह की चर्चाएं होने लगी। घटना की जानकारी मृतक बालिका के 14वर्षीय छोटे भाई शुभम को होने पर उसके द्वारा डायल हंड्रेड पुलिस को सूचित किया गया। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने मामला संदिग्ध देखते हुए कोतवाली पुलिस को अवगत कराया।
    घटना की जानकारी मिलते ही बीकापुर कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंच गई तथा परिजनों की तलाश करने लगी। पुलिस के आने की भनक लगते ही मृतक बालिका के परिजन मौके से फरार हो गये। तथा मौके पर एक महिला मिली।जिसे महिला पुलिस के सहयोग से कोतवाली लाया गया। तथा अन्य लोगों की खोजबीन शुरू कर दी गई। ग्रामीणों के अनुसार मृतक बालिका की माता का निधन लगभग 13 वर्ष पहले हो चुका है मृतक बालिका एक बहन और एक भाई हैं ।उसकी मृत्यु के पश्चात उसके पिता ने दूसरी शादी कर ली थी जिससे लगभग 10 वर्ष का एक बेटा है। बालिका की सौतेली मां बच्चों को काफी प्रताड़ित करती है।
    ग्रामीणों का तो यहां तक भी कहना है कि 14 वर्षीय बालक को मारपीट कर घर से भगा दिया है जो गांव के ही किसी के यहां नौकरी कर अपना पेट पालता है। सौतेली मां द्वारा बालिका का भी आये दिन उत्पीड़न किया जाता रहा है। सौतेली मां के उत्पीड़न से परेशान होकर बालिका ने जहरीले पदार्थ का सेवन कर लिया जिससे उसकी मौत हुई।