यदि आवश्यता पडी तो राम मंदिर के लिए करूंगा आत्मदाह: वेदांती

धर्मसेना के जनसम्पर्क में डा. राम विलास दास वेदांती ने कहा-सरकार की मंशा ठीक नही

अयोध्या-फैजाबाद। धर्मसेना के बैनर तले विभिन्न हिन्दूवादी संगठनो द्वारा भव्य राम मंदिर निर्माण हेतु संतो के बीच लगातार मुहिम चलाई जा रही है समर्थन के इस क्रम में धर्मसेना के पदाधिकारी पूर्व सासंद व राम जन्म भूमि न्यास के सदस्य डाॅ0 राम विलास दास वेदांती से मिले। डाॅ0 वेदांती ने कहा कि भव्य राम मंदिर के लिए हमने हमेशा सघर्ष किया है 25 बार जेल गया हूॅ 35 बार नजरबंद हुआ हूॅ न जाने कितनी बार लाठिया खाई है अगर आवश्यकता होती है तो फिर से जेल जाऊगा अगर आवश्यकता पडती है तो आत्मदाह भी करूगा जब तक जिंदा रहंूगा राम लला के लिए सघर्ष करता रहूॅगा जब तक भव्य राम मंदिर निर्माण नहीं हो जाता बेदांती ने यह भी कहा कि सुप्रीम कोर्ट के जज भी चाहते कि राम मंदिर का निर्माण हो 75 प्रतिशत मुसलमान भी चाहते है कि भव्य मंदिर बने किन्तु सरकार की मंशा ठीक नहीं है धर्मसेना के संस्थापक संतोष दूबे ने कहा कि हमने भाजपा सरकार को वोट दिया था न कि सुप्रीम कोर्ट को तो हमारी अपेक्षा भाजपा सरकार से ही होगी वह चहे जैसे भी हो भव्य राम मंदिर पर विधेयक ला कर मंदिर निर्माण करवाये नहीं तो 2019 में बुरा परिणाम भुगतने के लिए तैयार रहे। हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय प्रवक्ता व अधिवक्ता मनीष पाण्डेय ने कहा कि जैसा कठोर निर्णय महबूबा से समर्थन वापसी का निर्णय लिया गया वैसा ही निर्णय भाजपा राम मंदिर पर विधेयक ला कर दिखाये क्योकि पूर्व में भी जब तीन तलाक नोटबन्दी जीएसटी जैसे कठोर निर्णय लिये जा सकते है तो भव्य राम मंदिर निर्माण पर क्यो नहीं महासभा के प्रवक्ता मनीष पाण्डेय ने जानकारी देते हुए बताया कि संतो से समर्थन मागॅने का सिलसिला लगातार जारी है समर्थन मागने के इस क्रम में चैबुर्जी मंदिर के मं. बृजमोहन दास मुमुक्षु भवन के म. राम चन्द्राचार्य रामचरित्र मानस भवन के मं. अजुर्न दास राम निवास मंदिर के मं. वीरेन्द्र दास तथा श्रीराम सिंधु धाम के प्रबन्धक राम बाबू वर्मा से मुलाकात की गयी सम्पर्क करने वाले प्रमुख लोगो मंे चाणक्य परिपद के संरक्षक प. कृपा निधान तिवारी सामाजिक वेद राजपाल अमर नाथ पाण्डेय बृजेश दूबे डाॅ0 रमेश भारद्वाज विजय तिवारी आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

इसे भी पढ़े  पर्यटन की अयोध्या में बढ़ी संभावनाएं : जिलाधिकारी

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More