The news is by your side.

इंसानी अधिकारों को वजूद में लाता है मानवाधिकार

मानवाधिकार सुरक्षा बोर्ड के तत्वाधान में हुई विचार गोष्ठी

मसौधा। मानवाधिकार सुरक्षा बोर्ड के तत्वावधान में मसौधा स्थित सावित्री मैरिज पैलेस में आयोजित विचार गोष्ठी एवं सम्मान समारोह का शुभारंभ मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलित कर किया गया । समारोह को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि गांव गांव की खबर के संपादक विवेक मिश्र ने कहा कि इंसानी अधिकारों को पहचान देने और वजूद को अस्तित्व में लाने के लिए, अधिकारों के लिए जारी हर लड़ाई को ताकत देने के लिए हर साल 10 दिसंबर को अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस मनाया जाता है पूरी दुनिया में मानवता के खिलाफ हो रहे जुल्मों-सितम को रोकने, उसके खिलाफ संघर्ष को नई परवाज देने में इस दिवस की महत्वूपूर्ण भूमिका है। वहीं समारोह को संबोधित करते हुए कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे मानवाधिकार सुरक्षा बोर्ड के चेयरमैन सीएम यादव ने कहा कि किसी भी इंसान की जिंदगी, आजादी, बराबरी और सम्मान का अधिकार है मानवाधिकार है. भारतीय संविधान इस अधिकार की न सिर्फ गारंटी देता है, बल्कि इसे तोड़ने वाले को अदालत सजा देती है। विचार गोष्ठी को संबोधित करते प्रदेश उपाध्यक्ष वरुण चौधरी एवं अयोध्या जिला प्रभारी मोहम्मद इजहार ने कहा कि मानवाधिकारों का हनन किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इस मौके पर मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने अतिथियों का माल्यार्पण कर स्मृति चिन्ह भेंट किया इस अवसर पर मानवाधिकार कार्यकर्ता एवं पत्रकार राम सिंह यादव, अखिलेश पांडे ,अंबेडकर नगर के जिला अध्यक्ष अमरेश यादव ,गोंडा के जिला अध्यक्ष प्रतीक पांडे, बाराबंकी के जिला अध्यक्ष शिवपूजन सिंह, लखनऊ के जिला अध्यक्ष अखंड प्रताप सिंह आदि मौजूद रहे।

Advertisements
Advertisements

Comments are closed.