युवा उत्तरदायी नीतियों और कार्यक्रमों के लिए अपनी चिंताओं को दें आवाज : श्रीराम हरिदास

युवाओं को सक्रिय करने की अपील के लिए वर्चुअल इवेंट का आयोजन

अयोध्या। यूएनएफपीए, आरईसी फाउंडेशन, कम्युटिनी द यूथ कलेक्टिव और ये एक सोच फाउंडेशन अपने साथी संस्थाओं के साथ ‘बी ए जागरिक’ (Be aJagrik) प्रोजेक्ट का दूसरा चरण शुरू करेंगे। युवाओं को सक्रिय करने की अपील के लिए एक वर्चुअल इवेंट का आयोजन किया गया। जिसका उद्देश्य प्रत्येक युवा को जागृत बनाने और प्रत्येक क्षेत्र में जागरुकता बढ़ाने में सक्षम बनाना था। जिन जिलों में परियोजना सक्रिय रही है वहां से लगभग 200 जबरदस्त जागरुकों की भागीदारी करने वाले संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ-साथ पदाधिकारियों और सामुदायिक प्रतिनिधियों ने इस जीवंत और केंद्रित कार्यक्रम में भाग लिया जिसमें इसके जागरुकों की आवाज़ें, परिवर्तन की वास्तविक कहानियां और समर्थन के औपचारिक बयान शामिल थे।
यूएनएफपीए, आरईसी फाउंडेशन, कम्युटिनी-द यूथ कलेक्टिव और ये एक सोच फाउंडेशन के साथ-साथ इसके छह यूपी कलेक्टिव मेंबर ऑर्गेनाइजेशन- अवध पीपुल्स फोरम, बदलाव संस्था, बेवजह समिति, दे-हाथ सोसाइटी, ग्राम्य संस्थान, वनांगना, की पहल से एक ऐसा परिदृश्य का निर्माण करना चाहता है, जहां आईसीपीडी एजेंडा और यूएनएफपीए डीएनए में प्रजनन और यौन स्वास्थ्य के लिए सार्वभौमिक पहुंच के मुद्दों को संबोधित करने वाली सोशल एक्शन परियोजनाएं वास्तव में युवाओं द्वारा सह-डिज़ाइन, सह-स्वामित्व और सह-नेतृत्व में चलाई जा सके। यह युवाओं की प्राकृतिक “पहचान-खोज“ का हिस्सा है, और युवाओं को यह पता लगाने में मदद करता है कि उनके आसपास के समुदाय से उनकी भलाई कैसे जुड़ी हुई है। बी ए जागरिक, कम्युनिटी द यूथ कलेक्टिव का एक फ्लैगशिप प्रोग्राम है जिसमें युवाओं को जोड़ने की कोशिश की जा रही है। उत्तर प्रदेश के अलावा यह भारत के 14 अन्य राज्यों में भी चल रहा है। 2018-19 में यूएनएफपीए ने कम्युनिटी, द यूथ कलेक्टिव और 11 जमीनी संगठनों के साथ भागीदारी की, ताकि संवैधानिक ढांचे के भीतर कार्रवाई को बढ़ावा देने और सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स के लिए योगदान करने के लिए युवा नेतृत्व को विकसित किया जा सके। एक वर्ष में 400 यूथ लीडर्स ने 1.5 लाख लोगों के साथ ऑन-ग्राउंड एंगेजमेंट के माध्यम से 1300 सोशल एक्शन प्रोजेक्ट्स को कार्यान्वित किया है। इस सफलता से उत्साहित यूएनएफपीए इस महत्वपूर्ण पहल में निवेश जारी रख रहा है। एक गहन, अगले स्तर के निवेश के साथ, हमारा मानना है कि इनमें से कई जबरदस्त जागरुक सामाजिक उद्यमियों या आंत्रप्रेन्योर के रूप में विकसित हो सकते हैं, जो समुदायों के जीने के तरीकों में बदलाव ला रहे हैं और यह समाज के निरंतर नवीकरण का आधार बनता है। आरईसी फाउंडेशन ने युवाओं को अपनी पूरी क्षमता का अहसास करने में सक्षम बनाने की इस महत्वपूर्ण यात्रा को भी शुरू किया है।
इस चरण में टीम उत्तर प्रदेश के 4 जिलों- लखनऊ, फैजाबाद, चंदौली और बांदा में हस्तक्षेप करेगी। ग्रामीण और शहरी भौगोलिक क्षेत्रों में संतुलन के अलावा, इन जिलों में से प्रत्येक का सामाजिक-आर्थिक, राजनीतिक दृष्टिकोण से एक रणनीतिक महत्व है। क्षेत्रीय मुद्दों पर राज्य स्तर पर एडवोकेसी इस परियोजना की एक रणनीतिक गतिविधि है। कार्यान्वयन पार्टनर्स की ओर से इस परियोजना, जो कि दूसरे चरण में प्रवेश कर रही है,  की पिछले वर्ष की यात्रा और उनकी प्रतिबद्धता के साथ इस परियोजना की निरंतरता को साझा करते हुए कम्युनिटी के सह-संस्थापक अशरफ पटेल ने कहा, “कम्युनिटी, यस फाउंडेशन और यूपी कलेक्टिव के सदस्यों का यह दृढ़ निश्चय है कि युवाओं को अपनी पूरी क्षमता का अहसास कराने और अपने समुदायों को बदलने में सक्षम और सशक्त बनाएंगे। हम सभी के साथ, यूएनएफपीए, आरईसी फाउंडेशन और जबरदस्त जागरुकों के समर्थन के साथ हम ’प्रत्येक युवा एक जागरुक, हर जगह जागरुकता बढ़ाने के हमारे संयुक्त मिशन’ की दिशा में आगे बढ़ना जारी रखेंगे। इस अवसर पर उद्घाटन भाषण देते हुए यूएनएफपीए-इंडिया के डिप्टी रिप्रेजेंटेटिव श्रीराम हरिदास ने जोर देकर कहा कि “हर जागरुक यूएनएफपीए की ब्रांड एंबेसडर है! हम जानते हैं कि हम युवाओं की ऊर्जा और आदर्शवाद पर भरोसा कर सकते हैं! और, मैं आपको आश्वस्त करना चाहता हूं कि आप हम पर भरोसा कर सकते हैं कि हम आपकी बात सुनेंगे और आपको समर्थन देंगे और युवा उत्तरदायी नीतियों और कार्यक्रमों के लिए अपनी चिंताओं को आवाज देंगे। साथ मिलकर हम बेहतर कल का निर्माण करेंगे! यह पहल आरईसी फाउंडेशन द्वारा समर्थित है, अनंत ऊर्जा को सक्षम करने के लिए अनंत संभावनाएं के आरईसी मिशन के साथ तालमेल करती है। आरईसी फाउंडेशन के सीईओ डॉ.
श्रीनिवास श्रॉफ नागेश राव ने कहाः “युवाओं की क्षमताओं में निवेश से उन्हें उनके अधिकारों के साथ-साथ कर्तव्यों को पूरा करने से भारी रिटर्न मिलेगा; इन प्रक्रियाओं के माध्यम से युवा सशक्त महसूस करते हैं, नेतृत्व की भूमिकाओं में आते हैं और दूसरों को प्रेरित करते हैं ताकि उन्हें अपनी क्षमता और अपने समुदायों का एहसास हो। “ जागरुक फेज 2 का लॉन्च इवेंट पिछले 2 हफ्तों में पार्टनर संगठनों ने ऑन-ग्राउंड इवेंट्स की एक सीरीज का समापन था। इन इवेंट्स के माध्यम से जबरदस्त जागरुकों ने अपने समुदाय की चिंताओं की पहचान की, मुद्दों को प्राथमिकता दी और संबंधित हितधारकों के साथ समाधान निकालने में भागीदारी की। वनांगना से यूथ एंगेजमेंट लीड शबीना मुमताज़ ने बताया कि कैसे लड़कियों की शिक्षा न केवल संसाधनों की कमी के कारण बल्कि मानसिकता और दृष्टिकोण की वजह से भी उपेक्षित है, जो लड़कियों और उनकी शिक्षा को महत्व नहीं देता है। प्रचलित मानसिकता पर जागरुक चर्चा के दौरान दो जबरदस्त जागरुक- विद्यांशिनी (दे-हाथ सोसाइटी) और अंजलि (बेवजह समिति) ने इस माहवारी से जुड़ी सामाजिक वर्जनाओं पर प्रकाश डाला और इस प्राकृतिक घटना के बारे में जानकारी प्राप्त करने में संकोच की बात की। अपनी बातचीत में उन्होंने कुछ सरल तरीकों की खोज की जिसमें इन वार्तालापों को परिवार और सामुदायिक स्थानों पर खुलकर किया जा सके। अवध पीपुल्स फोरम से श्रुति ने बताया कि पितृसत्तात्मक मानसिकता लड़कियों के अवसरों को किस तरह रोकती है, जिसमें बाहरी दुनिया के साथ उनकी गतिशीलता और बातचीत भी शामिल है। उन्होंने अपने समुदाय में जगह बनाने का दावा करने के लिए अपने साथियों को एकत्रित करने के अपने अनुभव को भी साझा किया जो लड़कियों के लिए किसी समय सीमा से बाहर था। संजना (यह फाउंडेशन), जो बाल विवाह को लेकर बदलावों पर काम कर रही है, ने इस प्रथा पर ध्यान खींचने की कोशिश की जो व्यवस्थित रूप से युवाओं विशेषकर लड़कियों के विकास के अवसरों को सीमित करता है। उन्होंने अपने समुदाय के सदस्यों को इस नुकसान पहुंचाने वाली प्रथा के खिलाफ प्रतिज्ञा लेने के लिए प्रेरित किया। राहुल (ग्राम्य संस्थान) ने बताया कि किस तरह वह अपने गांव में ग्राम स्वास्थ्य पोषण दिवस को फिर से महत्वपूर्ण बनाने के लिए ट्रिपल ए- आशा, एएनएम, एडब्ल्यूडब्ल्यू के साथ काम कर रहे थे। इस सोशल एक्शन से गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को अपने गांव में गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवाएं प्राप्त करने में मदद मिलेगी और वे निजी क्षेत्र में होने वाले खर्चों से बच सकेंगी। परवेज़ (बदलाव संस्था) सेवा प्रदाताओं की ओर से गोपनीयता की कमी और जजमेंटल रवैये जैसे मुद्दों से निपटने के लिए तैयार है, जिसका सामना स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ उठाने में युवा करते हैं। इस आयोजन में समग्र शिक्षा अभियान में यूपी स्टेट प्रोग्राम कोऑर्डिनेटर डॉ. सरिता सिंह ने स्कूलों में लैंगिक रुढ़ियों और असमानता पर बात की। अपने विभाग की ओर से उन्होंने अपनी सामाजिक परिवर्तन यात्रा में युवाओं को अपना समर्थन दिया। इस इवेंट के अंत में प्रतिभागियों, युवाओं और उनके समर्थकों ने एक-दूसरे के लिए बेहतर दुनिया बनाने में सहयोग करने का संकल्प लिया, जहां कोई भी पीछे नहीं रहे।

इसे भी पढ़े  रालोद ने केंद्र सरकार के कृषि बिल के खिलाफ सौंपा ज्ञापन

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More