जेंडर आधारित हिंसा व गैर बराबरी पर चलाया अभियान

अयोध्या। अवध पीपुल्स फोरम की ओर से जेंडर आधारित हिंसा एवं गैरबराबरी पर 16 दिवसीय हिंसा को ना और समाज में बराबरी को बनाने के उद्देश्य के एक अभियान चलाया जा रहा है। अभियान में संयुक्त रूप से एक साथ अभियान, सहयोग- लखनऊ के साथ जुड़कर किया जा रहा है। इस अभियान के तहत राजा मोहन मनुचा गर्ल्स पी जी कालेज में युवाओं के साथ संवाद कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की शुरुवात करते हुए प्रधानाचार्य ज़रीन नज़र ने कहा कि युवाओं के साथ आज अपने परिवेश में मौजूद मुद्दों पर बहुत बात करना चाहिए। अभी जिस तरह से युवाओं में बदलाव को देखा जा रहा है। उसको सही दिशा में ले जाने के लिए परिवार, संस्थान में युवाओं को सुनने और अपनी बात कहने का अवसर विकसित करना चाहिए। ऐसे साथियों दोस्तों को बनाना जिसे अपने दैनिक जीवन की बात बहुत सहज तरह से कर पाए। तब ही हम हिंसा को रोक सकते है। एक सकारात्मक समाज तब ही बन सकता है ,जब वहाँ सभी के लिए संवाद का माहौल हो। कहने, सुनने और समझने की संस्कृति शैक्षणिक संस्थान, समुदाय एवं परिवार में बनाने की हम सब को कोशिश करना चाहिए। जिस तरह से बेटियों को संस्कार सीखने की बात होती है। उसी तरह से बेटों को भी संस्कार देने की ज़रूरत है। फोरम की ओर से अभियान का संचालन कर रहे युवा साथी शिवांशु मिश्रा ने कहा कि ये अभियान युवाओं में अपने स्थानीय परिवेश में मौजूद गैरबराबरी को समझने और उसपर सामूहिक पहल के लिए युवाओं को आगे आकर काम करने के लिए प्रेरित करता है। युवा अपने परिवेश को समझने के लिए आगे आये।
सामाजिक कार्यकर्ता आफाक उल्लाह ने कहा कि हमको अपने समाज का निर्माण करना है। यदि किशोरियों की अगुवाई में ये समाज चले तो हिंसा का सवाल ही नहीं है। किसान और महिला सृजन का काम करते है। पर जैसे की काम की बात आती है तो हम पुराने चश्मे से देखते हुए सब कुछ पुरुषों के हिस्से में खुद डाल देते है। अपने काम और उससे सम्मान की संस्कृति हमको बनानी है। पहले खुद समझना है कि हमारी इस समाज को बनाने और चलने में अहम भूमिका है। तब दूसरे समझेंगे। कोई भी समाज, समय एक बार में नहीं बेहतर होता है। बल्कि उसको बार बार बनाने और बेहतर समाज बनाने की दिशा में लगना पड़ता है। जिससे समाज निर्माण में नवीन ज्ञान ऊर्जा का संचार हो सके। इस कार्यक्रम सामाजिक कार्यकर्ता आशीष कुमार, शहज़ाद कुरैशी और दीपक कुमार मौजूद रहे।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More