The news is by your side.

चौदह कोसी परिक्रमा : आस्था के पथ पर उठे लाखों पग

-देश के कोने-कोने से आए श्रद्धालु कर रहे 14 कोसी परिक्रमा

अयोध्या। मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्रीराम की नगरी अयोध्या की ऐतिहासिक चौदह कोसी परिक्रमा सोमवार/मंगलवार की रात से शुरू हो गई। आस्था के पथ पर लाखों पग निकल पड़े। परिक्रमा पथ पर रामचरित मानस की चौपाइयों की गूंज के साथ जय श्रीराम, राम-राम और सीताराम के स्वर ध्वनित हो रहे थे। परिक्रमा को देखते हुए रामनगरी में यातायात डायवर्जन लागू कर दिया गया है। अयोध्या में सभी प्रकार के वाहनों का प्रवेश प्रतिबंधित है। चौदह कोसी परिक्रमा में सुबह होते-होते अयोध्या और अयोध्या धाम मानव-श्रृंखला में बंध सी गई ऐसा लग रहा है जैसे कि दोनों नगरों को भक्तों की माला पहना दी गई है।

Advertisements

श्रद्धालुओं ने परिक्रमा पथ पर अपनी-अपनी सुविधा के अनुसार पहले से निश्चित किए गए स्थान से परिक्रमा के लिए कदम बढ़ाया अयोध्या, दर्शननगर, भीखापुर, देवकाली, जनौरा, नाका हनुमानगढ़ी, मोदहा, सिविल लाइंस स्थित हनुमान मंदिर, सहादतगंज, अफीम कोठी आदि स्थानों से श्रद्धालुओं ने पूरे भक्ति की रौ में परिक्रमा करनी शुरू कर दी। नयाघाट पर बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने रात में ही पावन सलिला सरयू में डुबकी लगाई और परिक्रमा मुहूर्त का इंतजार करने लगे।

श्रद्धालुओं की सेवा के लिए जगह-जगह सेवा शिविर भी लगे हुए हैं जलपान से लेकर चिकित्सा के पूरे इंतजाम परिक्रमा पथ पर किये गये है। अयोध्या में उमड़े भक्तों पावन सलिला सरयू में डुबकी लगाकर विभिन्न मंदिरों में दर्शन-पूजन भी कर रहे है। चौदहकोसी परिक्रमा में प्रशासन द्वारा सुरक्षा के व्यापक प्रबंध किए गए हैं। सुरक्षा की कमान एटीएस व आरएएफ ने संभाल ली है। मेले की निगरानी सीसीटीवी व ड्रोन कैमरों से की जा रही है। परिक्रमा पथ के छह संवेदनशील स्थानों पर ड्रोन से प्रत्येक गतिविधि पर निगाह रखी जा रही है

इसे भी पढ़े  सोशल मीडिया सहित अन्य प्लेटफार्म क्लाउड कंप्यूटिंग स्टोरेज से संचालित : गौरव सक्सेना

ऐसी मान्यता है कि कार्तिक अक्षय नवमीं पर भगवान श्रीराम की नगरी की परिक्रमा करने से सभी पाप धुल जाते हैं और कभी भी अपने दुश्मनों से पराजय नहीं होती है इसी मान्यता के साथ देश भर से लाखों श्रद्धालु अयोध्या में चौदह कोसी परिक्रमा करने पहुंचते है। चौदह कोसी परिक्रमा 21 नवम्बर की रात्रि 11ः38 बजे तक चलेगी वहीं पंचकोसी परिक्रमा एकादशी 22 नवम्बर को रात्रि 09ः25 बजे से प्रारम्भ होकर 23 नवम्बर को सायं 07ः21 बजे तक व कार्तिक पूर्णिमा स्नान 26 नवम्बर को दोपहर 03ः11 बजे से प्रारम्भ होकर दिनांक 27 नवम्बर को दोपहर 02ः36 बजे तक आयोजित होगी।

Advertisements

Comments are closed.