The news is by your side.

ट्रांसफार्मर में लगी आग, राहगीर समेत चार झुलसे

-पान की गुमटी व चाय का ठेला जला

अयोध्या। शुक्रवार को दोपहर बाद डीएम आवास के निकट चुंगी चौराहा स्थित बिजली के ट्रांसफार्मर से तेज आवाज के बाद आग का गोला निकला। जिसने चौराहे स्थित पान की गुमटी चाय के ठेले आदि को अपनी चपेट में ले लिया। आग की चपेट में आकर राजगीर समेत चार लोग झुलस गए। जिनको उपचार के लिए जिला अस्पताल पहुंचाया गया है। इनमें से एक को हालत गंभीर होने के चलते चिकित्सकों ने लखनऊ ट्रामा सेंटर रेफर किया है। मौके पर पहुंची फायर दस्ते की टीम ने आग पर काबू पाया है।

Advertisements

शुक्रवार को दोपहर बाद लगभग 2ः00 बजे बिजली विभाग के कर्मचारी ट्रांसफार्मर पर काम करने आए थे। स्थानीय लोगों का कहना है कि बिजली कर्मियों के जाने के लगभग 15 मिनट बाद अचानक आज ट्रांसफार्मर में तेज आवाज हुई और एक आग का गोला निकला। इस आग के गोले ने चौराहे स्थित पान की गुमटी चाय के ठेले आदि को अपने चपेट में ले लिया। घूमती और ठेला पूरी तरह जल गया। ठेले पर चाय पीने आया बगल में ही बैग रिपेयरिंग की दुकान चलाने वाला 30 वर्षीय राजकुमार पुत्र स्वर्गीय राम सिंगार निवासी करम अली का पुरवा थाना कैंट, चाय विक्रेता 35 वर्षीय मुकेश मौर्य पुत्र सियाराम निवासी करम अली का पुरवा थाना कैंट, सब्जी विक्रेता 45 वर्षीय आत्माराम पुत्र बुद्धू निवासी पुरे बल जोर का पुरवा थाना पुरा कलंदर और ट्रैफिक सिग्नल ग्रीन होने के इंतजार मैं खड़ा कैंट थाना क्षेत्र के ही फतेहपुर सरैया का रहने वाला 45 वर्षीय विनय कुमार पुत्र नरेंद्र मोहन आग की चपेट में आ गया और झुलस गया।

इसे भी पढ़े  श्री अध्यात्म शक्तिपीठ मुबारकगंज में कन्या पूजन संपन्न

हादसे के बाद मौके पर हलचल मच गई तत्काल मामले की खबर पुलिस व फायर दस्ते को दी गई। स्थानीय लोगों ने झुलसे लोगों को जिला अस्पताल पहुंचाया। वही मौके पर पहुंचे फायर दस्ते ने आग पर काबू पाया है। जिला अस्पताल प्रशासन को कहना है कि राजकुमार को रवि मौर्य, मुकेश मौर्य को उसका भाई जग प्रसाद मौर्य, आत्माराम को बबलू लेकर जिला अस्पताल आया था। राहगीर विनय कुमार को मामूली झुलसा होने के चलते प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई जबकि बाकी तीनों को उपचार के लिए भर्ती कर लिया गया। इनमें से राजकुमार 90 फीसदी से ज्यादा झुलस गया था।उसकी हालत गंभीर होने के चलते लखनऊ ट्रामा सेंटर रेफर किया गया है।

सर्जन ए के सिन्हा ने बताया कि आर्थिक कारणों से परिवार ने लखनऊ ले जाने में असमर्थता व्यक्त की है, जिसके चलते यहीं पर उपचार किया जा रहा है।

Advertisements

Comments are closed.