महिला स्वास्थ्य कर्मी की मां को पीटा, की लूटपाट

बीकापुर।  सीएचसी बीकापुर के ए0एन0एम0 सेन्टर पुहपी में तैनात महिला स्वास्थ्यकर्मी ए0एन0एम0 अरूणा कुमारी की मॉ को बदमाशो ने घर में घुसकर बर्बरता से पिटाई करके बन्धक बनाया उसके बाद आलमारी और बाक्स तोडकर उसमें रखी 10 हजार रूप से की नगदी व मॉ बेटी के सोने चॉदी के जेवरात लूटकर इतमिनान से चलें गये। लूट की यह दुस्साहसिक घटना रविवार की सरे शाम करीब 5ः30 बजे पुहपी ए0एन0एम सेन्टर में स्थित ए0एन0एम0 आवास की है। लूट की इस घटना में 10 हजार की नगदी सहित करीब 1 लाख रूपये जेवरात लुट जाने का अनुमान है। इस घटना में बदमाशो की बर्बरता से की गई पिटाई में ए0एन0एम की मॉ प्रभावती को भी गहरी चोटे आई है। जिसे उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इस सम्बन्ध में ए0एन0एम0 अरूणा कुमारी ने घटना के सम्बन्ध में कोतवाली में तहरीर दे दी है। दूसरी ओंर घटना के बाद सूचना मिलते ही इंस्पेक्टर रामचन्द्र सरोज पुलिस टीम के साथ लुटेरां की धर पकड के लिए तलाशी अभियान शुरू कर दिया। किन्तु समाचार प्रेषण तक पुलिस के हाथ खाली थे। तहरीर में कहा गया है कि रविवार को ए0एन0एम0 अरूणा कुमारी मार्केटिंग करने के लिए शहर गई हुई थी। घर पर बूढी मॉ श्रीमती प्रभावती अकेली ही थी। ए0एन0एम0 का आवास भी सेन्टर में ही है। बताया गया कि पीछे के दरवाजे से दो लुटेरे कमरे में घुस आये। मॉ के पूछते ही लुटेरों ने लपककर मुंह पकड लिया और डण्डे से प्रहार कर सिर में गहरी चोट पहुचा दी। चींखने पर मुंह में कपडा ठूस दिया और हाथ पांव बांधकर फिल्मी स्टाइल में आलमारी और बाक्स तोड़कर उसमें रखे ए0एन0एम की 10 हजार की नगदी दो सोने की चैन, दो सोने की अंगूठी दो जोडी पायल, और ए0एन0एम0 के मॉ की सोने की लाकेट कान में पडे सोने का तप व एक जोडी पायल लूटपाट कर भाग गये। लुटेरों के जाने के कुछ देर के बाद जब कोई गॉव का राहगीर उधर से गुजरा और कराहने की आवाज सुनी तो वह अन्दर गया और वहां का नजारा देखकर व सन्न रह गया। जिसकी सूचना पर गॉव के लोग मौके पर आये प्रभावती को बन्धन मुक्त कर मुंह से कपडा निकाला पुलिस को सूचना दी तथा बेहोशी हालत में प्रभावती को लेकर गॉव के लोग बीकापुर सीएचसी पहुसी। जहां किसी डाक्टर के न रहने से गंभीर रूप से चोटहिल प्रभावती को जिला अस्पताल में भर्ती कराया जहां उसका उपचार चल रहा है। इस दुस्साहसिक घटना से गॉव के सामान्य लोग भी आक्रोशित और दहशतजदा है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More