The news is by your side.

भुखमरी की कगार पर शिक्षा प्रेरक

कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य को सौंपा ज्ञापन

गोसाईगंज। करीब दो साल से अवशेष मानदेय का भुगतान न होने से शिक्षा प्रेरक भुखमरी की कगार पर पहुंच गए हैं। उन्होंने उत्तर प्रदेश सरकार की पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए मांग की है कि भुगतान शीघ्र कराया जाए जिससे वह त्योहार मना सकें।
रविवार को आदर्श साक्षरता समिति के पदाधिकारी शिक्षा प्रेरक के अध्यक्ष रमेश कुमार जिला महामंत्री पुष्पेंद्र निषाद शैलेंद्र प्रसाद सालिकराम हरी लाल यादव शशि प्रभा माधुरी बिंदु शशि कला ज्ञानमती सीतारा अम्बरीष यादव राम लहन यादव गिरीश सिंह सच्चा राम आदि सैकड़ों शिक्षा प्रेरक उपस्थित रहे और नारा दिया कि मोदी तेरे राज में कटोरा आया हाथ में योगी तेरे राज में कटोरा हाथ में बाबू गया प्रसाद कान्वेंट स्कूल के वार्षिक उत्सव समारोह में पधारे उत्तर प्रदेश शासन के कैबिनेट मंत्री (श्रम एवं सेवा योजन) स्वामी प्रसाद मौर्य को शिक्षा सेवकों ने शिकायती पत्र देकर अवगत कराया कि साक्षरता मिशन के तहत हर ग्राम पंचायत में एक पुरुष व एक महिला शिक्षा प्रेरक की नियुक्ति की गई थी। इसमें ब्लाक स्तर पर एक व जिला स्तर पर चार समन्वयकों को नियुक्त किया गया था। जिला व ब्लाक समन्वयकों के लिए 6 हजार मानदेय निश्चित किया गया था। 31 मार्च 2018 को इनके नवीनीकरण नहीं किए गए और कार्यक्रम को स्थगित कर दिया गया। जिले के प्रेरकों का 28 माह का अवशेष मानदेय नहीं दिया गया और न ही ब्लाक समन्वयक का भी 28 माह का मानदेय बाकी है। ऐसे में सभी प्रेरक भुखमरी की कगार पर हैं। उन्होंने मांग की है कि होली के पर्व पर उन लोगों का भुगतान शीघ्र कराया जाय।

Advertisements
Advertisements

Comments are closed.