The news is by your side.

मडहा नदी में नहाने उतरे युवक की डूबकर मौत

-रौनाही थाना क्षेत्र के ग्राम सभा अरथर के पूरे दीवान की घटना

सोहावल। दोस्तों की बात रखने को मडहा नदी (तमसा) में नहाने उतरे युवक की डूबने से मौत हो गई। सूचना मिलने पर घर मे कोहराम मच गया। घटना रौनाही थाना क्षेत्र के ग्रामसभा अरथर के पूरे दीवान स्थित मडहा नदी (तमसा) में रविवार दोपहर करीब 11ः30 बजे दिन में हुआ। जहां थाना क्षेत्र के ग्रामसभा मीरपुर कांटा के साधु पुरवा निवासी तीन दोस्त स्नान करने पहुंचे थे। डूबने वाले युवक 18 वर्षीय शिवशंकर के बारे में बताया जा रहा कि उसे तैरना नहीं आता था। इस समय मडहा नदी (तमसा) उफान पर है।

Advertisements

दोस्तों के कहने पर कमर में रस्सी बांधकर रस्सी के एक सिरे को पुल की रेलिंग से फंसा दिया था। बहाव तेज होने व तैयारने की कोशिश में रस्सी टूट गई। जिससे शिव शंकर डूब गया। सदमे में आए दोस्तों ने शोर न मचाकर एक दोस्त घटना स्थल से 5 किलोमीटर दूर अपने गांव साधु का पुरवा जाकर परिजनों को जानकारी दी। धीरे धीरे लोगों को जानकारी हुई तो पूरे दीवान गांव के कुछ युवकों ने नदी में खोजने की कोशिश की।

सूचना पर यूपी डायल 112 और रौनाही पुलिस तथा इनायतनगर थाने के बारुन पुलिस चौकी इंचार्ज अमित आदि पहुंचे। रौनाही थाने में गोताखोर नहीं होने से प्रभारी निरीक्षक शमशेर बहादुर सिंह ने कैंट थाने से सम्पर्क कर गुप्तारघाट अयोध्या से निजी गोताखोरों को बुलाया। इस दौरान 4 घण्टे बीत गए। अयोध्या से पहुंचे निजी गोताखोर भगवान दीन निषाद और प्रदीप निषाद ने एनडीआरएफ टीम पहुंचने से पहले डूबे युवक के शव को निकालने में सफल रहे।

इसे भी पढ़े  रामलला के दरबार पहुंची छत्तीसगढ़ सरकार

मौत घसीट ले गई घर से पांच किमी दूर

-साधुपुरवा निवासी दुर्गा प्रसाद के तीन बेटों सबसे छोटा शिव शंकर था। छोटा होने से लाडला भी था। कानपुर में रह कर काम करता था। अभी दुर्गा पूजा महोत्सव में घर आया था। रविवार को गांव के दोस्तों की आग्रह व दोस्ती निभाने घर से 5 किलोमीटर दूर पूरे दीवान के मडहा नदी (तमसा) पुल पहुंचा था। लोगों के मुताबिक घाट न बना होने से नहाने में डर रहा था। डूबने के डर से पुल की रेलिंग में रस्सी बांधकर अपनी कमर में फंसाया था। कुछ देर नहाने के दौरान धारा पड़ने व रस्सी टूटने से डूब गया। शाम में उसका शव बाहर निकाला गया।

गोताखोरों ने जताया अफसोस

‘-अभी तक 16 वर्षों में 341 को जिंदा निकालने में कामयाब रहे भगवान दीन व प्रदीप निषाद को अफसोस रहा कि उन्होंने जीवित के बजाए शव बाहर निकाला। अयोध्या के अलावा गोरखपुर, बनारस, बस्ती, सन्तकबीरनगर, बाराबंकी आदि जिलों में निशुल्क सेवा देने वाले भगवान दीन व प्रदीप निषाद को पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव सम्मानित भी कर चुके हैं। सरकारी सर्विस का वादा भी किया था। दोनों गोताखोरो ने भीड़ को अपना मोबाइल नम्बर 9506590004 नम्बर भी दिया। बताया कि लोगों की जान बचाने की निशुल्क सेवा करते हैं। इन्होंने उप्र गोताखोर टीम अयोध्या भी बना रखा है।

Advertisements

Comments are closed.