फिलेटली से सामान्य ज्ञान होगा मजबूत : दुर्गापाल

ढाई आखर “मेरे देश के नाम ख़त” खुली पत्र लेखन प्रतियोगिता में छात्र–छात्राओं ने किया प्रतिभाग

फैजाबाद। शानिवार को राष्ट्रीय स्तर पर जूनियर एवं सीनियर वर्ग के खुली पत्र लेखन प्रतियोगिता  ढाई आखर “ मेरे देश के नाम ख़त” शीर्षक पर फैजाबाद मण्डल के प्रवर अधीक्षक डाकघर  जेबी दुर्गापाल की अध्यक्षता एवं सहायक अधीक्षक मुख्यालय एके सिंह की देखरेख में प्रधान डाकघर में आयोजित किया गया जिसमे फैजाबाद के सनबीम स्कूल, हरी प्रसाद मेमो स्कूल, कानोसा स्कूल, फैजाबाद पब्लिक स्कूल, उदया पब्लिक स्कूल, आर्मी पब्लिक स्कूल, जे.बी एकडमी, जे.बी स्कूल, टिनी टास स्कूल, आर्य कन्या, राजकीय इन्टर कालेज तथा राजकीय कन्या इन्टर कालेज के सैकड़ों छात्रों ने पत्र लेखन प्रतियोगिता में जमकर अपने उद्दगार व्यक्त किया | इस अवसर श्री दुर्गापाल कहा कि सूचना एवं प्रौद्दोगिकी के इस दुनिया में आज के पीढ़ी सोशल साईट को अधिक तरजीह दे रहे है ऐसे में अभिभावक को चाहिए कि उन्हें पुरानी परम्परागत संचार शैली को बनाये रखने के लिए प्रोत्साहित करें इससे उनके पत्र लिखने की शैली में सुधार होगा और अपनापन की अनुभूति होगी | श्री दुर्गापाल ने छात्रों से फिलेटली खाता खोलवाने की अपील भी किया उन्होंने बताया कि फिलेटली से सामान्य ज्ञान मजबूत होता हैं  |  मण्डल के मुख्य विपणन अधिकारी सत्येन्द्र प्रताप सिंह ने बच्चो को डाक विभाग में फिलेटली (डाक टिकट संग्रह) के बारे में विस्तार से बताते हुए कहा कि फिलेटली किंग आफ हावी – हावी आफ किंग है जिसमे शौक मात्र रखने पर किसी महा पुरुष, नदियाँ, खेल जगत, महल, पंछी, जानवर आदि विषयों में डाक टिकटों का संग्रह करते हुए उनके पुराने इतिहासों से समान्य ज्ञान अर्जित कर सकते है और इससे उनका सामान्य ज्ञान भी विकसित होगा | साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि इसमें रूचि रखने वाले डाकघर में फिलेटली खाता खुलवा सकते है इससे उन्हें नये नये टिकट घर बैठे ही मिलते रहेगें | इस अवसर पर उपेन्द्र वर्मा, अतुल उपाध्याय, अमित यादव, बैजनाथ सिंह, सीएम पाण्डेय, पंकज सिंह, माधव यादव, माता प्रसाद, आदि मौजूद रहे।

इसे भी पढ़े  श्री राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण निधि समर्पण में संतोष निषाद ने दिया 51000₹

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More