स्वच्छता अभियान चुनौतीपूर्ण कार्य : सच्चिदानंद

स्वच्छता एक्शन प्लान पर दो दिवसीय कार्यशाला का हुआ समापन

अयोध्या। डॉ. राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के संत कबीर सभागार में होटल प्रबन्ध संस्थान, लखनऊ (पर्यटन मंत्रालय, भारत सरकार के तहत एक स्वायत्त निकाय) और विश्वविद्यालय के समाज कार्य विभाग के संयुक्त तत्वावधान में स्वच्छता एक्शन प्लान पर दो दिवसीय कार्यशाला के समापन अवसर पर संबोधित करते हुए अयोध्या नगर निगम के एडीशनल कमिश्नर सच्चिदानंद ने अपने सम्बोधन में कहा कि स्वच्छता अभियान एक चुनौतीपूर्ण कार्य है इस अभियान को स्वच्छता एक्शन प्लान के माध्यम से ही पूरा किया जा सकता है स्वच्छता केवल नगर निगम या प्रशासन का दायित्व नहीं है। बल्कि सभी नागरिकों का कर्तव्य है। स्वच्छता को दैनिक जीवनचर्या में अपनाना होगा। एडीशनल कमिश्नर ने अपने अनुभव को साझा करते हुए बताया कि कचरा प्रबंधन को प्राथमिकता देनी होगी और इसमें नूतन तकनीक का प्रयोग करना होगा। स्वच्छता को अपनी आदत में शुमार करना होगा । कोई भी शुरूआत अकेले होती है फिर आगे चलकर समूह, समुदाय और देश जुड़ जाता है। यह बात स्वच्छता की पहल पर भी लागू होती है।
कार्यक्रम में डॉ0 शैलेन्द्र कुमार ने अपने विशेष व्याख्यान में व्यक्तिगत स्वच्छता पर विशेष जोर देते हुए कहा कि हमें अपनी दैनिकचर्या में छोटी से छोटी बात का भी ख्याल करना होगा खान-पान हो या साफ-सफाई। पीने के पानी के बारे में बताते हुये डॉ0 कुमार ने कहा कि हमने अपने पेय जल के भण्डार को स्वंय दूषित किया है और सीवेज निस्तारण की वजह से नदियों और झीलों का पानी भी दूषित हो रहा है। कीटनाशकों के अतिशय प्रयोग से खान-पान की वस्तुएं भी हानिकारक हो रही हैं।
कार्यशाला में डॉ0 विनोद चौधरी ने वैश्विक जल संकट का उल्लेख करते हुए कहा कि पूरे विश्व में स्वच्छ जल को लेकर चिन्ता व्यक्त की जा रही है । इस संकट के लिए विकसित देश अपेक्षाकृत अल्प विकसित देशों से ज्यादा उत्तरदायी हैं। विकसित देश स्वच्छ जल का ज्यादा उपभोग औद्योगिक संगठनों में करते हैं। और अल्प विकसित देश कृषि कार्यों में । जो कि रिचार्ज किया जा सकता है। कार्यशाला में डॉ0 राजेश सिंह कुशवाहा ने ग्रीन टेक्नोलॉजी को अपनाने पर जोर दिया और कहा कि ग्रीन तकनीकी से प्रदूषण नियन्त्रण में सहायता मिलेगी। साथ ही व्यवसायिक संगठनों के उत्पादों की लागत कम होगी और वे इको फ्रेण्डली होंगें। वर्तमान में सूचना की सभी को जरूरत है। ऐसे में मीडिया को स्वच्छता में अपनी भूमिका बढ़ चढ़ कर निभानी होगी।
कार्यक्रम का संचालन डा0 गौरव विशाल ने व धन्यवाद ज्ञापन डा0 विनय कुमार मिश्रा ने किया। इस मौके र डा0 दिनेश कुमार सिंह, डा0 अनिल कुमार विश्वा, अभिषेक मौर्य, ललित मोहन, अजय कुमार सहित छात्र-छात्रांओं की उपस्थिति रही।

इसे भी पढ़े  हादसे में तीन कैटरिंग कर्मियों की मौत, एक घायल

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More