भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता ने पीएम नरेंद्र मोदी की तुलना लाल बहादुर शास्त्री से की

कहा राममंदिर को लेकर राजनैतिक दृष्टिकोण में हुआ है परिवर्तन

फैजाबाद। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने देश में बदलते राजनैतिक दृष्टिकोण पर प्रकाश डाला तथा जनता से जुड़ाव को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की तुलना लालबहादुर शास्त्री से की। सर्किट हाउस में प्रेस वार्ता के दौरान उन्होने कहा कि कभी राजनीति में तुष्टिकरण हावी था। आज कोई शिवभक्त बन रहा है और कोई विष्णु भक्त। राममंदिर को लेकर राजनैतिक दृष्टिकोण में परिवर्तन हुआ है। सकारात्मक मुद्दो पर बात हो रही है।
उन्होने कहा कि राजनीति पर पहली बार स्वच्छ विचार विमर्श हो रहा है। दो प्रधानमंत्री ऐसे थे जिनका जनता से जुड़ाव था। लाल बहादुर शास्त्री के कहने पर लोगो ने एक वक्त का भोजन छोड़ दिया था। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कहने पर 2 करोड़ के लगभग लोगो ने गैस सब्सिडी छोड़ दी। पर्यावरण को लेकर प्रधानमंत्री को प्रतिष्ठित चैम्पियन आफ अर्थ के अवार्ड से सम्मानित किया गया है। उन्होने कहा कि भाजपा शुरु से ही कह रही है कि अयोध्या में भव्य राममंदिर का निर्माण होना चाहिए। साधू संतो की राय से भाजपा अलग नहीं है। यूपीए के शासन काल में पढ़ाया जाता था कि राम और कृष्ण काल्पनिक है। जब भाजपा की सरकार ने इसमें परिवर्तन किया तो कहा जाने लगा कि भाजपा शिक्षा का भगवाकरण कर रही है। कोर्ट ने हमेशा राममंदिर के पक्ष में फैसला दिया है। वर्तमान में अंतिम दौर की सुनवाई चल रही है। राममंदिर को लेकर साधू संतो की अधीरता वाजिब है। फैसले को टालने का प्रयास कौन कर रहा है। कपिल सिब्बल ने यहां तक कह दिया कि 2019 के पहले फैसला नहीं आना चाहिए। इससे लोगो की भावनाएं प्रभावित होती है।
उन्होने कहा कि भाजपा ने बढ़े हुए बूथों पर अपनी तैयारियां प्रारम्भ कर दी है। विपक्षी दल तो अभी तक जिलाध्यक्ष तक घोषित नहीं कर पाये। बूथों सभी वर्गो को साथ लेकर चलने की विचारधारा पर भाजपा कार्य कर रही है। इससे पहले जिला सहकारी सभा के सभापति अंकुर सिंह ने स्मृति चिन्ह भेंट करके भाजपा प्रदेश प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी को सम्मानित किया। प्रेस वार्ता के दौरान जिलाध्यक्ष अवधेश पाण्डेय बादल, इं रणवीर सिंह, भाजपा मीडिया प्रभारी दिवाकर सिंह, सहमीडिया प्रभारी 0रोहित पाण्डेय मौजूद रहे।

इसे भी पढ़े  अयोध्या की रामलीला : मेघनाथ वध व सुलोचना विलाप का हुआ मंचन

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More