बीफ सौदागर गिरोह का पुलिस ने किया भंडाफोड़

गिरोह के चार सदस्य गिरफ्तार, दो फरार

अयोध्या। बीफ सौदागर गिरोह का पुलिस ने भंडाफोड़ करते हुए गिरोह के चार सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया है। गिरोह के अन्य दो सदस्य फरार हैं। गिरोह शादी समारोहों में बीफ आपूर्ति करने का ठेका लेता था और गोकशी करने के बाद मांस को सप्लाई कर देता था। यह जानकारी पुलिस लाइन सभागार मे पुलिस अधीक्षक ग्रामीण संजय कुमार ने पत्रकारों को दिया।
उन्होंने बताया कि 20 दिसम्बर को नटन पुरवा तिराहा ग्राम मवई के पास अभियुक्तगण मोनू उर्फ अब्दुल मन्नान पुत्र खालिद उर्फ भिन्नू निवासी ग्राम नेवरा थाना मवई को गिरफ्तार कर उसके कब्जे से 12 बोर का तमंचा, दो कारतूस, 610 रूपया और एक बाइक डिस्कवर यूपी 42 एम 0357 बरामद किया गया। इसी के साथ शकील पुत्र मेराज निवासी ग्राम नेवरा, वसीम पुत्र सिद्दीक निवासी ग्राम हुनहुना, प्रवेश पुत्र राम आधार निवासी ग्राम जौहद्दीपुर थाना जैतपुर जनपद बाराबंकी को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया है। शकील के पास से एक लोहे का चापड़, एक चाकू, 320 रूपया नकद, वसीम के पास से एक लोहे का चाकू, 220 रूपया नकद व डिस्कवर बाइक यूपी 32 डीडी 5943 और प्रवेश के पास से 110 रूपया नकद एक पिकप वाहन यूपी 41 एटी 2296 बरामद किया गया है। पिकप की जब तलाशी ली गयी तो उसमें एक ठीहा, एक कुल्हाड़ी, एक डंडा, 6 नायलान की रस्सी, प्लास्टिक व जूट की पांच बोरी बरामद हुई। पुलिस छापामारी के दौरान मौके से नौशाद पुत्र चांद खां निवासी सराय सलीम जरगाया थाना असंद्रा जनपद बाराबंकी व ईशा पुत्र हनीफ निवासी वाजिदपुर थाना पटरंगा फरार होने में सफल हो गये। एसपीआरए ने बताया कि गिरोह के लोग पिकप वाहन पर खरीदे गये अथवा घुमंतू गोवंशों को लाद लेते थे और उन्हें अज्ञात स्थान पर ले जाकर बांध देते थे। शादी आदि समारोहों में मांग के आधार पर वह पशुओं का वध कर बीफ की आपूर्ति करते थे। उन्होंने बताया कि 23/24 दिसम्बर की रात्रि उसरी की पुलिया ग्राम हुनहुना के पास गौवंशीय पशुओं के तीन कटे सिर मिले थे इसके बाद पुलिस ने इस मामले में गहन छानबीन शुरू कर दिया था अन्ततः गिरोह का खुलासा करने में पुलिस सफल हुई। उन्होंने बताया कि असंद्रा थाना के कुछ पुलिस अधिकारी व कर्मचारी जिनकी संख्या तीन चार के आसपास है की गिरोह से मिलीभगत करने मामला उजागर हुआ है इस सम्बन्ध में दोषी पुलिस के खिलाफ विभागीय कार्यवाही के लिए उच्चाधिकारियों को लिखा जा रहा है। उन्होंने बताया कि मोनू उर्फ अब्दुल मन्नान शातिर किस्म अपराधी है तथा मवई थाना में इसके खिलाफ 16 मुकदमें पंजीकृत हैं। शकील व वसील के विरूद्ध चार-चार मुकदमें पंजीकृत हैं। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने बीफ सौदागर गैंग का खुलासा करने वाले पुलिस दल को 10 हजार रूपये इनाम देने की घोषणा किया गया है। पकड़े गये सभी अभियुक्तों को जेल भेजा जा रहा है।

इसे भी पढ़े  दुनियां का सबसे बड़ा लिखित भारतीय संविधान : प्रो. रविशंकर सिंह

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More