सरकारी योजनाओं के पत्रक के साथ अयोध्या विधायक ने दी घर-घर दस्तक

भाजपा ने महानगर में आठ स्थानों पर निकाली कमल संदेश यात्रा

अयोध्या। मंगल पाण्डेय वार्ड में अयोध्या विधायक वेद प्रकाश गुप्ता की अगुवाई में भाजपा ने कमल संदेश पद यात्रा निकली। यात्रा के दौरान विधायक ने जनशिकायतें भी सुनी। योजनाओं को लाभार्थियों को सम्मानित भी किया। केन्द्र व प्रदेश सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं के पत्रक को लेकर घर घर दस्तक भी दी। इस अवसर पर विधायक वेद प्रकाश गुप्ता ने कहा कि अयोध्या के विकास हेतु केन्द्र व प्रदेश सरकार कटिबद्ध है। अयोध्या को कई विकास की योजनाएं दी गयी है। संतो व महंतों के निर्देशों के अनुरुप अयोध्या को विकसित किया जा रहा है। रेलवे स्टेशन से लेकर गली कूचो की सड़को पर विकास की गंगा दिखाई दे रही है। भाजपा शासनकाल में जनप्रतिनिधि शिकायतों को सुन्ने के लिए जनता के दरवाजे पर जा रहे है। विधायक के साथ पदयात्रा के दौरान आलोक द्विवेदी, गणेश गुप्ता, राजीव शुक्ला, ओम मोटवानी, अनिल सोनी, दिवाकर सिंह, अमल गुप्ता, भानू प्रताप सिंह, बजरंगी साहू, ओम प्रकाश अंदानी, अजय ओझा आदि थे।
वही चौक वार्ड में महानगर अध्यक्ष कमलेश श्रीवास्तव व सहकारी बैक के सभापति धर्मेन्द प्रताप िंसह टिल्लू की अगुवाई में पदयात्रा निकली। महानगर अध्यक्ष कमलेश श्रीवास्तव ने बताया कि केन्द्र व प्रदेश सरकार गरीबों के हितों में कई योजनाओं की शुरुवात की है। योजनाओं से गरीबों के उत्साह का माहौल है। सहकारी बैंक के सभापित धमेन्द्र प्रताप सिंह टिल्लू ने कहा कि केन्द्र व प्रदेश सरकार की योनजाओं के किसानों की आय में बढ़ोत्तरी हुई है। इस अवसर पर सुधीर नारायन श्रीवास्तव, रंजीत पाण्डेय, सुधीर चौरसिया, अमित श्रीवास्तव, तिलकराम मौर्या, अमरेन्द्र सिंह, हेमन्त जायसवाल, सार्थक सोनी आदि मौजूद थे।
अयोध्या रामकोर्ट वार्ड में परमानंद मिश्रा, विनोद श्रीवास्तव, रमेश दास, बालकृष्ण वैश्य छोटू पाण्डेय की अगुवाई में यात्रा निकली। सिविल लाईन में महानगर उपाध्यक्ष नागेन्द्र सिंह लल्लू, विनोद गुप्ता, शैलेन्द्र कोरी, राजेन्द्र गुप्ता, नीलम जायसवाल, देवेन्द्र अग्रहरि, की अगुवाई में पदयात्रा निकालकर जनकल्याणकारी योजनाओं की जानकारी दी गयी। महिला मोर्चा की जिलाध्यक्ष अशोका दिवेदी व सतीश रानी शर्मा की अगुवाई में दो दर्जन से ज्यादा महिलाओं ने केन्द्र व प्रदेश सरकार की जनकल्याणकारी योनजाओं के पत्रक बांटे।

इसे भी पढ़े  दुनियां का सबसे बड़ा लिखित भारतीय संविधान : प्रो. रविशंकर सिंह

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More