अयोध्या महोत्सव के लिए बन रहा कला गांव

विधायक ने किया महोत्सव स्थल का निरीक्षण

अयोध्या। राजकीय इण्टर कालेज में आयोजित होनें वाले अयोध्या महोत्सव में कला गांव का निर्माण कार्य चल रहा है। इस वर्ष कला गांव का नाम दीन दयाल उपाध्याय गांव दिया गया है। फरवाही लोक नृत्य के कलाकार विजय यादव और उनकी टीम के सदस्य दिनरात कलागांव के निर्माण में लगे हुए हैं। कलागांव में विशेष रूप से 10 फीट ऊंचा पहाड़ बनना है जिसपर अनवरत झरने ंके जलबहाव को किया जा रहा है। साथ ही विभिन्न प्रकार के पुतलो को लगाकर गांव को सजाया जा रहा है। कला गांव में अयोध्या जनपद के योगी सरकार में हुए विकास को दर्शाती हुई एक दीर्घा भी बनाई जाएगी जिसमें विभिन्न विकास की योजनाओं को दर्शाया जाएगा महोत्सव लोक कलाओं से जुड़ा हुआ विगत 5 वर्षो से आयोजित होनें वाला जिले का एैसा समारोह है जिसका इंतेजार हर जनपद वासियों को रहता है। इस महोत्सव को और आकर्षक कैसे बनाया जाए कलाकारों को प्रोत्साहित कैसे किया जाए इन्ही विचारों को लेकर आयोजन समिति के लोग दिनरात आयोजन स्थल पर रहकर कार्यो को गति प्रदान कर रहे है। अयोध्या विधायक वेद प्रकाश गुप्ता जो महोत्सव न्यास के मुख्य संयोजक हैं कल महोत्सव स्थल का निरिक्षण किया और आवश्यक दिशा निर्देश देते हुए कहा कि महोत्सव की भव्यता और गरिमा जनपद की भव्यता और गरिमा को प्रदर्शित करे एैसा आयोजन इस वर्ष होना है। जिससे आने वाले समय में और अधिक भव्यता के साथ अयोध्या की गरिमा को सम्पूर्ण देश ओर प्रदेश में दिखाया जा सके। जैसे योगी सरकार दीपोत्सव के माध्यम से समरसता कुम्भ के माध्यम से और अन्य आयोजनों से अयोध्या की संस्कृति को दिगंतर तक फैलानें का प्रयास कर रही है। उसको और अधिक गति अयोध्या महोत्सव के माध्यम से दी जा सके । महोत्सव समिति के अध्यक्ष हरीश श्रीवास्तव नें बताया अयोध्या आयडल का अंतिम आडीशन 23 दिसम्बर को प्रेस क्लब में प्रातः 10ः00 बजे से प्रारम्भ होगा। जिसमें गायन और नृत्य के प्रतिभागी प्रतिभाग करेंगे। अयोध्या महोत्सव का मुख्य आकर्षण होगा कलागांव। कार्यस्थल पर उपाध्यक्ष जयशंकर श्रीवास्तव, अमल गुप्ता, महासचिव चन्द्रप्रकाश गुप्ता, आकाश अग्रवाल, सचिव नाहिद व जयांश, विवेक, पंकज श्रीवास्तव, बृजमोहन तिवारी, राजकुमार आदि मौजूद रहे।

इसे भी पढ़े  बिना मास्क के बाहर घूमने वाले 690 पर की गई कार्यवाही

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More