The news is by your side.

महिला उत्पीड़न रोकने में मददगार विशाखा गाइडलाइन

-विश्वविद्यालय में मिशन शक्ति अभियान फेज-3 के तहत आयोजित हुई संगोष्ठी

अयोध्या। डॉ0 राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के महिला अध्ययन केंद्र एवं वीमेन ग्रीवेंस एण्ड वेलफेयर सेल द्वारा प्रदेश सरकार द्वारा शुरू किये गये मिशन शक्ति अभियान फेज-3 के तहत ‘‘कार्यस्थल पर महिला यौन उत्पीड़न की रोकथाम संबंधी कानून‘‘ विषय पर आज 11 सितम्बर, 2021 को संगोष्ठी का आयोजन किया गया। संगोष्ठी को संबोधित करती हुई मुख्य वक्ता काउंसलर फैमिली कोर्ट एवं महिला यौन उत्पीड़न निवारण प्रकोष्ठ, अयोध्या की सदस्य डॉ0 मृदुला राय ने बताया कि देश के कानून में महिलाओं को कई प्रकार के अधिकार प्रदान किए गए है।

Advertisements

महिलाएं उन अधिकारों का प्रयोग नही कर पा रही है। कार्यस्थल पर महिला उत्पीड़न निषेध अधिनियम, 2013 के तहत महिलाओं को विशेष संरक्षण प्रदान किया गया है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय अपराध ब्यूरों के अनुसार बड़े स्तर पर महिलाओं के साथ अपमान जनक मामले दर्ज हुए है। इसकों दृष्टिगत रखते हुए सरकार ने कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न रोकने के लिए विशाखा दिशा-निर्देश बनाये है। इस अधिनियम की अवमानना करने वाले व्यक्ति को आर्थिक दण्ड एवं कारावास का प्रावधान किया गया है, भले ही महिला संगठित एवं गैर संगठित क्षेत्र से जुड़ी हो। इस प्रावधानों का अनुपालन करने के लिए नियोक्ताओं पर दायित्व माना गया है। इसके साथ ही डॉ0 मृदुला ने महिला यौन उत्पीड़न की रोकथाम संबंधी कानून पर विस्तार जानकारी दी।

महिला अध्ययन केंद्र एवं वीमेन ग्रीवेंस एण्ड सेल की समन्वयक प्रो0 तुहीना वर्मा ने कहा कि महिलाओं को अपने अधिकारों के प्रति सजग होना चाहिए। बिना किसी भय के आगे बढ़े और आवश्यकता पड़ने पर विधिक सहायता लेने से परहेज न करें। उन्होंने बताया कि कुलपति प्रो0 रविशंकर सिंह निर्देश पर वीमेन ग्रीवेंस एण्ड वेलफेयर सेल द्वारा ई-मेल आईडी बनाया गया है। इसमें विश्वविद्यालय की छात्राएं, शिक्षिकाएं एवं महिला कर्मचारी उत्पीड़न सम्बन्धित अपनी शिकायते दर्ज करा सकती है। कार्यक्रम में प्रो0 तुहिना ने छात्र-छात्राओं को बालिका सुरक्षा की शपथ दिलाई।

इसे भी पढ़े  गरीबों के कल्याण को लेकर बनेंगी और योजनाएं : अनुप्रिया पटेल

कार्यक्रम के अंत में बालिकाओं के लिए परामर्श सत्र का भी आयोजन किया गया। इसमें अर्थशास्त्र एवं ग्रामीण विकास विभागाध्यक्ष प्रो0 विनोद कुमार श्रीवास्तव ने सभी बालिकाओं को आगे बढ़ने की प्रेरणा दी। संगोष्ठी का संचालन डॉ0 स्नेहा पटेल द्वारा किया तथा धन्यवाद ज्ञापन डॉ0 सरिता द्विवेदी ने किया। इस अवसर पर डॉ0 सिंधू सिंह, डॉ0 प्रतिभा त्रिपाठी, डॉ0 प्रतिभा, डॉ0 रीमा, डॉ0 श्वेता दुबे, श्रीमती नीलम मिश्रा सहित बड़ी संख्या छात्र-छात्राएँ शामिल रही।

Advertisements

Comments are closed.