रक्षक एप के न्यू फीचर्स का कुलपति ने किया उद्घाटन

नए फीचर्स में रक्षक एप के जरिए मिलेगी विवि की विविध जानकारी

अयोध्या। डॉ. राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के कौटिल्य प्रशासनिक भवन में रक्षक एप से आवश्यक एवं एडवांस वर्जन को फीचर्स से जोड़ा गया। न्यू फीचर्स का उद्घाटन विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 मनोज दीक्षित ने किया।
रक्षक एप सूचना क्रांति के इस युग का एक महत्वपूर्ण कदम है। कुलपति प्रो0 मनोज दीक्षित ने बताया कि रक्षक एप विश्वविद्यालय में पहले से ही विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालय के छात्रों के लिए उनकी आवश्यक सुविधाओं को ध्यान में रखकर अपडेट किया जा रहा है। नए फीचर्स में रक्षक एप के जरिए विश्वविद्यालय के छात्र विश्वविद्यालय से संबंधित समाचार, प्रमुख सूचनाएं, नोटिस, यूआईएन नंबर, नामांकन, परीक्षा के साथ-साथ विश्वविद्यालय परिसर के छात्र अब अपने मोबाइल पर रक्षक एप से लाइब्रेरी में उपलब्ध पुस्तकों के विवरण के साथ साथ निर्गत तिथि एवं वापसी की भी जानकारी मोबाइल एप के जरिए प्राप्त कर सकेंगे।
प्रो0 दीक्षित ने बताया कि लाइब्रेरी के डिजिटलाइजेशन से रक्षक एप को जोड़ दिया गया है। रक्षक एप का यह महत्वपूर्ण प्रयोग प्रदेश की अग्रणी संस्थानों से जोड़कर देखा जा रहा है क्योंकि अभी तक इस तरह के प्रयोग प्रदेश के अन्य विश्वविद्यालयों ने नहीं किये है। रक्षक एप से आपातकाल में छात्र ऑडियो, फोटो एवं वीडियो को भी संबंधित अधिकारी को सहायतार्थ भेज सकेंगे। इस एप में एसओएस के माध्यम से मुख्य नियंता एवं पदाधिकारियों को तुरंत कॉल हो जाएगी। इससे छात्र की लोकेशन का पता भी चल जाएगा और उन्हें आवश्यक सहायता उपलब्ध कराई जा सकेगी। प्रो0 दीक्षित ने बताया कि विभिन्न विभागों के विभागाध्यक्ष एवं समन्वयकों के मोबाइल नंबर एवं पाठ्यक्रम से संबंधित टीकर को भी डिस्पले किया जाएगा।
लाइब्रेरी के डिजिटलाइजेशन एवं ऑटोमेशन के विशेष कार्याधिकारी डॉ0 नरेश चैधरी के निर्देशन में न्यू फीचर्स तैयार किया गये है। लाइब्रेरी के डिजिटलाइजेशन से रक्षक एप से छात्रों की सूचना सुविधाएं काफी अपग्रेड हो गई है। इन सभी प्रयोगों से विश्वविद्यालय राष्ट्रीय स्तर की सूचना सुविधाओं को मुहैया कराने की ओर अग्रसर है। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के प्रति कुलपति प्रो0 एस एन शुक्ल, परीक्षा नियंत्रक उमानाथ, कार्य परिषद सदस्य ओपी सिंह, मुख्य नियंता आर0एन0 राय, पुस्तकालयाध्यक्ष डॉ0 आरके सिंह, डाॅ0 सुंदरलाल त्रिपाठी डॉ विजयेन्दु चतुर्वेदी, डॉ0 आर0 एन0 पांडे, आशीष मिश्र, प्रोग्रामर रवि मालवीय, गिरीशचंद्र पंत, अनुराग श्रीवास्तव सहित अन्य उपस्थित रहे।

इसे भी पढ़े  अयोध्या की रामलीला : मेघनाथ वध व सुलोचना विलाप का हुआ मंचन

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More