बर्खास्त सैनिक तेज बहादुर को सपा ने बनाया वाराणसी का प्रत्याशी

पूर्व फौजी बोले- मैं हूं असली चैकीदार

ब्यूरो। समाजवादी पार्टी ने वाराणसी लोकसभा से बर्खासत सैनिक तेजबहादुर यादव को अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया है। जिससे पीएम मोदी के सामने अब कड़ी चुनौती बनती दिखाई दे रही है। बताते चलें कि सैनिकों को घटिया खाना देने की साल 2017 शिकायत के बाद बीएसएफ से बर्खास्त किए गए तेज बहादुर यादव को समाजवादी पार्टी से वाराणसी में पीएम मोदी के खिलाफ उतारने की घोषणा के बाद तेज बहादुर ने कहा- “मैं असली चैकीदार हूं।“ फौरन चुनाव मोड में आते ही समाजवादी पार्टी उम्मीदवार ने कहा- “मैं हूं असली चैकीदार, जिसने 21 वर्षों तक सीमा की रक्षा की है और भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाई है। चैकीदार शब्द पीएम मोदी को सूट नहीं करता है।” समाजवादी पार्टी ने उस वक्त सभी को हैरान कर दिया जब सोमवार को अचानकर इस हाई प्रोफाइल संसदीय सीट पर पीएम मोदी के खिलाफ शालिनी यादव को बदल दिया। शालिनी यादव साल 2017 में मेयर चुनाव में असफल रही थीं और वे पूर्व कांग्रेस राज्यसभा सांसद श्यामलाल यादव की बहू हैं। 2017 में वीडियो वायरल करने के बाद विवाद पैदा करने वाले पूर्व फैजी ने कहा- “मैं इस चुनाव में जीत या हार के लिए नहीं बल्कि पीएम मोदी को आईना दिखाने के लिए खड़ा हुआ हूं। मैं लोगों से यह बताऊंगा कि पीएम मोदी यह दावा करते हैं कि वे सैनिकों के शुभचिंतक हैं लेकिन उन्होंने सैनिकों के लिए किए वादों को पूरा नहीं किया। इस हकीकत को जानने के बाद लोग मेरा समर्थन करेंगे।” पूर्व बीएसएफ जवान ने आगे बताया कि करीब दस हजार पूर्व फौजी उनके पक्ष में वाराणसी संसदीय क्षेत्र में उतकर घर-घर जाकर उनके लिए वोट मांगेंगे। यादव रेजिमेंट के वादे को लेकर समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव की तारीफ करते हुए तेज बहादुर ने कहा- “अगर मैं वाराणसी से जीतता हूं तो मैं यह आवाज संसद में उठाऊंगा।”

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More