The news is by your side.

70वें गणतंत्र दिवस पर झूम कर लहराया तिरंगा

मण्डलायुक्त ने संविधान के प्रस्तावना की दिलाई शपथ


विन्सेंट ज्योति जूनियर हाई स्कूल नैयर कालोनी में गणतंत्र दिवस

अयोध्या। जनपद में 70वां गणतंत्र दिवस समारोहपूर्वक मनाया गया। सभी विद्यालयों सरकारी व गैर सरकारी संस्थानों व सभी राजनीतिक पार्टियों के कार्यालयों ध्वजारोहण के साथ सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। डा. राममनोहर लोहिया अवध विवि के कुलपति ने न्यू कैम्पस में ध्वजारोहण किया तथा विवि के छात्रों व कर्मचारियों को सम्बोधित किया। पुलिस लाइन में आयोजित कार्यक्रम में आईजी ओंकार सिंह व कमिश्नर मनोज मिश्र ने परेड की सलामी ली। रंगारंग कार्यक्रम में स्कूली बच्चों ने मनमोहक नृत्य पेश कर सबका मन मोह लिया। साथ ही कमिश्नर मनोज मिश्र ने मंच से केंद्र व प्रदेश सरकार की कल्याणकारी योजनाओ की जानकारी भी दी। वहीं पुलिस विभाग के बहादुर सिपाहियों ने करतब दिखाकर अपनी बहादुरी के परचम दिखाएं.इस मौके पर पुलिस लाइन में सराहनीय कार्य के लिए पुलिस अधिकारियों कर्मचारियों को प्रशंसा चिन्ह से आईजी रेंज ओंकार सिंह ने सम्मानित भी किया। मंडल कारागार में भी गणतंत्र दिवस समारोहपूर्वक मनाया गया. इस मौके पर जेल अधीक्षक बृजेश कुमार ने तिरंगा लहरा कर सभी कैदियों के साथ गणतंत्र दिवस मनाया.बंदियों ने मंडल कारागार में सांस्कृतिक कार्यक्रम भी पेश किए। वहीं जिले के सभी स्कूलों में भी गणतंत्र दिवस धूमधाम से मनाया गया और प्रभात फेरी निकाली गई. विन्सेंट ज्योति जूनियर हाई स्कूल नैयर कालोनी में गणतंत्र दिवस पर विद्यालय की प्रबंधक श्रीमती मंजू सिंह एवं संरक्षक प्रो. के.एम. सिंह ने ध्वजारोहण किया। इस अवसर पर प्रधानाचार्य अवधेश गुप्ता, श्रीमती सुधा खरे, किरन गुप्ता, कुसुम, सायरा, रितु, नविता, अंजली, रूपाली, नेहा, प्रियंका आदि ने बच्चों को गणतंत्र दिवस की बधाई दी।
गणतंत्र दिवस के अवसर पर मंडल आयुक्त मनोज मिश्र ने मंडलायुक्त कार्यालय परिसर में झंडारोहण के उपरांत मंडल वासियों एवं उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि हम संविधान में अंकित जो मानक हैं उन के अनुरूप आचरण करने के लिए आत्मार्पित करने का संकल्प लेने जा रहे हैं उन्होंने उपस्थित सहयोगियों एवं मंडल के सहयोगी अधिकारी गणों एवं कर्मचारी गणों को गणतंत्र दिवस की बधाई देते हुए कहा कि आज का अवसर अपने ज्ञात अज्ञात शहीदों एवं उनकी स्मृतियों को याद किए बिना पूरा नहीं हो सकता है उन्होंने शहीदों को नमन करते हुए आग्रह किया कि शहीदों के बलिदान को किसी भी प्रकार से निष्फल ना होने दिया जाए। हम आप यहां पर एकत्रित हुए हैं और अनेकानेक राष्ट्रीय पर्वों पर पहले भी अपने कर्तव्यों और दायित्वों का स्मरण करते रहे हैं किंतु यह एक औपचारिकता हो करके ना रह जाए, उसको हमें अपने आचरण में लाना होगा तभी इसकी सार्थकता सिद्ध हो सकेगी। इस अवसर पर मंडलायुक्त मनोज मिश्र ने मंडल की उपलब्धियों एवं शासन की घोषणाओं का जिक्र करते हुए कहा कि यह जान कर के आपको प्रसन्नता होगी कि बेसलाइन सर्वे 2012 के आधार पर हम लोग अपने मंडल के पांचों जनपदों को ओडीएफ घोषित कर चुके हैं। इस वर्ष हम लोग राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी का 150 वां जन्मदिन मनाने वाले हैं महात्मा गांधी जी की 150वीं वर्षगांठ, 2 अक्टूबर को पूरा राष्ट्र ओडीएफ घोषित हो करके उनको समर्पित होगा इस दिशा में हम लोग आगे बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि बेसलाइन सर्वे 2012 से भी छूटे हुए जो लाभार्थी हैं उनको भी कवर करने, आच्छादित करने का नव संकल्प लिए हुए हैं और कट ऑफ लाइन के पहले उसे भी हम लोग कर लेंगे यह मेरा विश्वास है और यह आप के सतत प्रयास पर निर्भर करता है।
उन्होंने पशुपालकों से अनुरोध किया कि अपने अपने पशुओं के प्रति जो दायित्व है उससे विमुख ना हो, हम अपनी समस्या को दूसरे पर ना डालें, जिसको हम ने पाल रखा है व पालन पोषण कर रखा है उसके दायित्व का सम्यक रूप से हम निर्वाह करें यह हमारे लिए और समाज के लिए अच्छा परिणाम दायक और फलदाई होगा। इस अवसर पर उन्होंन अयोध्या जनपद में हुए अच्छे कार्यों की ओर ध्यान आकर्षित करते हुए कहा कि यहां पर 24 पशुशालायें अब तक कार्यरत हो चुकी है जिसमें लगभग 3,000 पर आ चुके हैं। उन्होंने कहा कि जो गौशालाएं हैं उनमें आवारा पशुओं को नियंत्रित करने के लिए छुट्टा जानवरों के बधियाकरण का अभियान भी चलाया गया है, साथ-साथ पशुपालन विभाग को यह भी निर्देशित किया गया है कि किसी भी पशुपालक के यहां यदि कोई मेल बच्चा पैदा होता है गाय का, तो प्रारंभिक स्तर पर ही उसके बधियाकरण का पूर्ण प्रयास करें। ताकि उनकी आबादीध्जनसंख्या को नियंत्रित कर सकें और इस समस्या से हम शीघ्र निजात पा सके।
उन्होंने आगे कहा कि जो हमारी सांस्कृतिक धरोहर थी और रही है इस क्षेत्र को जिस रूप में प्राचीन काल में जाना जाता है यानी अयोध्या इस नाम से हमने 23 नवंबर के नोटिफिकेशन से जनपद का नाम अयोध्या जनपद कर दिया गया है शासन द्वारा। और मंडल का नाम अयोध्या मंडल घोषित हो चुका है यह हमारे लिए बहुत ही गरिमामय स्थिति है, नगर निगम पहले ही घटित हो चुका है।उन्होंने कहा कि पर्यटन के क्षेत्र में भी अयोध्या को विश्व के मानचित्र पर लाने की दिशा में अनेकानेक प्रयास चल रहे हैं, धार्मिक पर्यटन यहां का विशेष महत्व रखता है जो भी श्रद्धालु यहां आते हैं उनकी सुख सुविधाओं के लिए यहां पर कई अस्थापना सुविधाएं विकसित की जा रही हैं जिसमें से कुछ पूर्ण हो चुकी हैं और कुछ पर तेजी से कार्य चल रहा है। मंडलायुक्त श्री मित्र ने कहा कि हम आप जिस किसी भी भूमिका में हैं उनका सम्यक रूप से ठीक से निर्वाह इस कसौटी पर करें कि देश हित में क्या जरूरी है इसके उपरांत उन्होंने उपस्थित लोगों को संविधान के प्रस्तावना की शपथ दिलाई।

Advertisements

अधिकारों की याद दिलाता है गणतंत्र दिवस : डॉ. अनिल कुमार

जिलाधिकारी ने कलेक्ट्रेट परिसर में किया ध्वजारोहण

अयोध्या। जिलाधिकारी डा0 अनिल कुमार ने 70वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर कलेक्ट्रेट परिसर मे ध्वजारोहण करने के उपरान्त उपस्थित अधिकारियो एवं कर्मचारियों को संकल्प दिलाते हुये कहा कि भारत को एक सम्पूर्ण प्रभुत्व सम्पन्न समाजवादी पंथ निरपेक्ष, लोकतन्त्रात्मक गणराज्य बनाने के लिये हमें उसके समस्त नागरिकों को सामाजिक, आर्थिक और राजनैतिक न्याय, विचार, अभिव्यक्ति, विश्वास, धर्म और उपासना की स्वतन्त्रता, प्रतिष्ठा और अवसर की समता प्राप्त करने के लिये तथा सबमें व्यक्ति की गरिमा और राष्ट्र की एकता एवं अखण्डता सुनिश्चित करने वाली बन्घुता बढ़ाने के लिये दृढ़ संकल्प होकर इस संविधान को अंगीकृत अधिनियमित एवं आत्मार्पित करना चाहिए तथा संविधान के रक्षा एवं सन्देशों का अनुपालन करने लिये सदैव तत्पर्य रहना चाहिए।
उन्होनें तिरंगे झण्डें एवं गणतंत्र दिवस के गौरवशाली इतिहास तथा उसके महत्व पर प्रकाश डालते हुये कहा कि हमारे अगणित देश भक्तों तथा अमर बलिदानियां ने जीवन भर संघर्ष कर जो स्वाधीनता हासिल की है वह अमूल्य है, उसकी रक्षा का अग्रेतर दायित्व हमारे ऊपर और नई पीढ़ी पर है। गणतंत्र की मूल अवधारणों पर प्रकाश डालते हुए उन्होनें लोगो को प्रेरणा देते हुये कहा कि देश व समाज का निर्माण प्रेम तथा सद्भावना से होता है घृणा से नहीं, मेल-जोल होता बैर भाव से नहीं, एक-दूसरे के धर्म का आदर करने से होता, अनादर से नहीं। हम राष्ट्र के हित मे जो संकल्प ले रहे है उसे सदैव ध्यान रखते हुये पूर्ण करना चाहिए, यदि हम संकल्प लेकर भी राष्ट्र एवं समाज के प्रति अपने कर्तव्यों एवं दायित्वों के साथ-साथ देश के प्रति अपना त्याग नही करते है, तो वह स्वतन्त्रता सेनानियों का अनादर एवं अपमान ही होगा, इसलिये हमें अपने लिये गये संकल्प के प्रति सजग रहकर कार्य करना चाहियें। आज का दिन हमें अपने अधिकारों की याद दिलाता है, हमें अपने अधिकारों के साथ-साथ अपने दायित्वों को ध्यान में रखना चाहिये, हम सबका यह परम कर्तव्य है कि धर्म, जाति, रंग सभी भेदभाव को भुलाकर सामाजिक, समरसता एवं साम्प्रदायिक सौहार्द स्थापित करने का प्रयास करें और भेदभाव की दुर्भावना को अपने पास न भटकने दें, हम ऐसा प्रयास करें कि समाज के सभी वर्गो के लोग सक्षम एवं कुशल नागरिक के रूप में विकसित होकर अपने दायित्व का निर्वाहन कर सके।

Advertisements

Comments are closed.