तीन युवाओं की मौत से शोक में डूबा पलिया माफी गांव

ग्रेटर नोएडा में इमारत ढ़हने से हुई थी मौत

फैजाबाद। ग्रेटर नोएडा के हादसे में जिले के तीन नौजवानों की मौत से पूरा गांव शोक में डूबा। बीते मंगलवार को हुए हादसे में मिल्कीपुर विधान सभा के थाना-इनायतनगर क्षेत्र के पलिया माफी गांव के तीन नौजवान 27 वर्षीय मो0 नौशाद अहमद, 22 वर्षीय मो0 शमशाद अहमद व 22 वर्षीय मो0 मुबीन उर्फ सोनू की इमारत ढहने से मौत हो गयी जिससे पूरे गांव में कोहराम मचा हुआ है। तीनों मृतक पेन्टिंग का काम करते थे जिस बिल्डिंग में ये लोग रहते थे उसी के पास निर्माणाधीन छः मंजिला इमारत थी उसी में काम चल रहा था। डियूटी के बाद तीनों खाना बनाने का इंतजाम कर रहे थे तभी अचानक भवन ढहने से मौत हो गयी। खबर सुनते ही समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव व पूर्व मंत्री अवधेश प्रसाद, युवजन सभा के जिलाध्यक्ष राघवेन्द्र प्रताप सिंह अनूप, सपा जिला सचिव बख्तियार खान आदि समाजवादी पार्टी के प्रमुख लोग गांव पलिया शाहगंज पहुॅंचकर दोनों परिवारों से कुशलक्षेम जाना और पूरी घटना के बारे में जानकारी ली। इस मौके पर घटना को दुःखद बताते हुए राष्ट्रीय महासचिव व पूर्व मंत्री अवधेश प्रसाद ने प्रदेश सरकार से यह मांग की कि तीनों मृतक नौजवानों को पच्चीस-पच्चीस लाख रूपये देने की मांग की और बिल्डिंग के मालिक को भी तीनों मृतकों को मुआवजा देना चाहिए। उन्होंने कहा कि अभी भी ग्रेटर नोएडा के उस बिल्डिंग में कई लोग दबे हुए हैं जिसकी सूचना मिली है। इस हादसे में कई लोग मारे गये हैं जिसकी अभी प्रशासन के लोगों से ठीक से पुष्टि नहीं की है। उन्होंने कहा कि घटना बड़ी दुःखद है एक ही गांव के तीन नौजवान और एक ही परिवार के दो सगे भाइयों की मौत से पूरा जनपद गमगीन है। युवजन सभा के जिलाध्यक्ष राघवेन्द्र प्रताप सिंह अनूप ने कहा कि मौके पर ही प्रशासन के अधिकारियों से बातचीत की और परिवारजनों को जल्द से जल्द मुआवजा देने की बात कही। उन्होंने दोनों परिवारों को ढांढस बॅंधाते हुए कहा कि समाजवादी पार्टी का पूरा परिवार इस दुःख की घड़ी में पूरी तरीके से साथ में है। सपा प्रवक्ता ओम प्रकाश ओमी ने बताया कि पलिया माफी गांव निवासी मुख्तार अहमद के दो बेटे मो0 नौशाद अहमद, मो0 शमशाद अहमद व मो0 मुबीन उर्फ सोनू नोएडा कमाने के लिये गये थे। तीनों लोग वहाॅं पेन्टिंग का काम करते थे। पूरा परिवार सदमे में हैं। तीनों को गांव के बगल ही कब्रिस्तान में दफनाया गया।

इसे भी पढ़े  उपजा अयोध्या इकाई का हुआ चुनाव

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More