The news is by your side.

जगत का कल्याण हो यज्ञ का यही है उद्देश्य : महंत परशुराम दास

-रामनगरी में विश्व कल्याण के लिए श्री राम महायज्ञ में पड रही हैं सवा दो लाख आहुतियां

अयोध्या। कायाकल्पि बर्फानी दादा के आशीर्वाद और सिद्ध पीठ संकट मोचन हनुमान किला के पीठाधीश्वर महंत परशुराम दास महाराज के सानिध्य में जगत कल्याण के लिए भगवान श्री राम के जन्मोत्सव पर चल रहे 9 दिन से श्री सीताराम नाम महायज्ञ में पड रही हैं आहुतियां नौ दिनों में 225 000 आहुतियां वैदिक विद्वानों के द्वारा मंत्रोच्चारण के साथ डाली जाएगी।

Advertisements

वही भगवान के जन्मोत्सव की भी तैयारी पूरी हो गई है यज्ञ हवन के साथ मंदिर में नवाहपारयण पाठ और सांध्य कालीन सत्र में बधाई गीत भी हो रहे हैं।17 अप्रैल को प्रभु श्रीराम के जन्मोत्सव तक प्रतिदिन विद्वानों द्वारा आहुतियां डाली जाएंगी।

संकट मोचन हनुमान किला पीठाधीश्वर  महंत परशुराम दास महाराज ने बताया कि प्रभु श्री राम के भव्य मंदिर निर्माण के उद्देश्य से 2011 से प्रारंभ हुई श्री सीताराम नाम महायज्ञ का यह 14 वां वर्ष है फैसला आने के बाद यह निर्णय लिया गया की महायज्ञ को बंद नहीं किया जाएगा बल्कि मानव कल्याण और जगत कल्याण के लिए यह अनुष्ठान प्रभु श्री राम लला के जन्मोत्सव के अवसर पर प्रतिवर्ष निरंतर चलता रहेगा।

उन्होंने बताया कि इस वर्ष विश्व शांति के लिए भी संकल्प लिया गया है क्योंकि मानवता के ऊपर बहुत बड़ा संकट है विश्व में उथल-पुथल मचा हुआ है जगह-जगह युद्ध हो रहे हैं लोग एक दूसरे को मार काट रहे हैं इसलिए प्रभु श्री राम लला से यह प्रार्थना की गई है कि विश्व में शांति हो और प्रत्येक मनुष्य एक दूसरे के साथ प्रेम भाव से विचरण करें। आचार्य कुलदीप तिवारी के दिशा निर्देशन में वैदिक विद्वान एवं मुख्य यजमान शशिकांत शर्मा सहित सैकड़ों लोग यज्ञ में आहुति डाल रहे है।

Advertisements

Comments are closed.