The news is by your side.

हर डाक टिकट के पीछे होती है एक कहानी

सनबीम स्कूल के छात्रों ने डाकघर के कार्य व्यवहार के बारे में ली जानकारी

अयोध्या। सनबीम स्कूल के छात्रों ने अयोध्या प्रधान डाकघर में डाकघर के कार्य व्यवहार के बारे में जानकारी लेने के उद्देश्य से भ्रमण किया । सूचना एवं प्रौद्दोगिकी के इस दुनिया में आज के पीढ़ी सोशल साईट फेसबुक, व्हाट्सएप को अधिक तरजीह दे रहे है ऐसे में उनकी पुरानी परम्परागत संचार शैली को बरकरार रखने के लिए बच्चो को डाक विभाग के फिलेटली (डाक टिकट संग्रह) के बारे में भी बताया गया ।

Advertisements

यह बातें अयोध्या मण्डल के प्रवर अधीक्षक डाकघर पी के सिंह ने उन्होंने यह कहा कि हर डाक टिकट अपने आप में एक कहानी छुपाये हुए है और इससे युवा पीढ़ी को जोड़कर अपनी संस्कृति, विरासत और व्यक्तित्वों के बारे में ज्ञान अर्जित किया जा सकता है। साथ ही विद्यार्थियों से अपील किया कि डाकघर में रुचि रखने के लिए फिलेटली खाता खोलें उन्होंने कहा कि फिलेटली को “ किंग आफ हाबी – हाबी आफ किंग“ भी कहा जाता है जिसमे रूचि रखने पर किसी भी विषय में डाक टिकटों का संग्रह कर सकते है इससे उनका सामान्य ज्ञान भी विकसित होगा द्य इसमें रूचि रखने वाले डाकघर में फिलेटली खाता खुलवा सकते है इससे उन्हें नये नये टिकट घर बैठे ही मिलते रहेगें

मुख्य विपणन अधिकारी सत्येन्द्र प्रताप सिंह ने भ्रमण करने आये छात्रों को सबसे पहले प्रधान डाकघर के लेटर बाक्स व पोस्टमैन के बारे में जानकारी दिया और कार्यशाला भी आयोजित कराते हुए नौनिहालों से पोस्कार्ड पर अपने माता पिता को पत्र लिखवाकर पोस्ट करवाया द्य श्रीसत्येन्द्र सिंह ने छात्रों को डाकघर के पोस्टमैन, स्पीड पोस्ट, रजिस्ट्री, बचत करने की आदतों के लिए इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक के बारे में बताया साथ ही डाकघर में उपलब्ध फिलेटली के आकर्षक डाक टिकटों से भी रूबरू करवाया । इसके बाद सभी छात्रों की मुलाकात मण्डल के प्रवर अधीक्षक डाकघर पी के सिंह, व सीनियर पोस्टमास्टर राजेन्द्र सिंह से कराया ।

इसे भी पढ़े  अयोध्या में पहली बार 4डी मंदिर से “लक्ष्मी-नारायण“ के दर्शन का अवसर

इस अवसर पर पी के सिंह ने छात्रों से मुलाकात करते हुए बच्चों को यह भी बताया कि अयोध्या प्रधान डाकघर में माई स्टैम्प की सुविधा उपलब्ध है इस सुविधा में अपने पल को और बेहतरीन एवं यादगार बनाने के लिए माई स्टैम्प बनवाये, जिसमे कोई भी व्यक्ति अपने फोटो का डाक टिकट जारी करवा सकता है । इस अवसर पर श्री सत्येन्द्र ने पत्र पेटिका के महत्त्व, छात्रों को पोस्टमैन, स्पीड पोस्ट, रजिस्ट्री, पत्रों के प्रेषण के साथ खाता खोलने के तरीके तथा फिलेटली डाक टिकटों को दिखाकर उसके बारे में विस्तार से जानकारी दिया ।

 

Advertisements

Comments are closed.