The news is by your side.

राजकीय किशोर संप्रेक्षण गृह में चेचक का कहर

निरूद्ध 15 किशोर स्माल पाक्स से पीड़ित, तीन गम्भीर

अयोध्या। राजकीय किशोर सम्प्रेक्षण गृह में चेचक के कहर के चलते निरूद्ध 15 किशोर स्माल पाक्स से पीड़ित हो गये। गम्भीर रूप से पीड़ित तीन किशोरों को गृह के अधीक्षक ने जिला चिकित्सालय में उपचार के लिए भर्ती कराया। बताया जाता है कि गंदगी और कुव्यवस्था के चलते इस संक्रामक बीमारी ने सम्प्रेक्षण गृह में पांव पसारा है।
फैजाबाद शहर के हृदय स्थल चौक में राजकीय किशोर सम्प्रेक्षण गृह विकास प्राधिकरण भवन में स्थित है। सम्प्रेक्षण गृह में 50 किशोरों को निरूद्ध करने की क्षमता निर्धारित की गयी है हालात यह हैं कि मौजूदा समय में यहां 143 किशोरों को निरूद्ध किया गया। क्षमता से अधिक किशोरों को निरूद्ध किये जाने से सम्प्रेक्षण गृह में जहां कुव्यवस्था का आलम है वहीं साफ-सफाई का भी अभाव है। साफ-सफाई न होने के कारण भी किशोर बंदियों में संक्रामक स्माल पाक्स फैला। मामले का खुलासा उस समय हुआ जब सम्प्रेक्षण गृह के अधीक्षक ने गम्भीर रूप से तीन किशोरों को इलाज के लिए जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया। कार्यवाहक सीएमएस डा. एस.पी. बंसल ने बताया कि छोटी चेचक पीड़ित जिन किशोरों का इलाज जिला चिकित्सालय अयोध्या में किया जा रहा है। उनके लिए डेंगू वार्ड को आरक्षित कर दिया गया है जिससे यह संक्रामक रोग चिकित्सालय मे भर्ती अन्य मरीजों तक न पहुंचने पाये। उन्होंने बताया कि जिला चिकित्सालय अयोध्या में स्माल पाक्स पीड़ित 17 वर्षीय दीपक मिश्रा पुत्र सुरेश मिश्रा निवासी ग्राम टूटी का पुरवा इनायतनगर, 16 वर्षीय रवि कुमार पुत्र दुर्गा प्रसाद निवासी सरायरासी महाराजगंज और 11 वर्षीय अभिषेक पुत्र राजेन्द्र निवासी रामगंज पीपरपुर जनपद अमेठी शामिल हैं। डा. बंसल ने बताया कि तीनों मरीजों के रोग पर काबू पा लिया गया है। छोटी चेचक के फैलने व जिला चिकित्सालय में भर्ती किये गये मरीजों को देखने अयोध्या विधायक वेद प्रकाश गुप्ता भी पहुंचे। उनसे जब यह पूंछा गया कि मौजूदा समय में जनपद में खसरा व रूबैला टीकाकरण अभियान चल रहा है ऐसे में क्या किशोर सम्प्रेक्षण गृह में भी अभियान चलाया गया या नहीं तो उन्होंने अनभिज्ञता जाहिर करते हुए कहा कि वह देखेंगे कि अभियान सम्प्रेक्षण गृह में चला कि नहीं यदि अभियान नहीं चला है तो विशेष अभियान चलाया जायेगा।

Advertisements
Advertisements

Comments are closed.