The news is by your side.

स्किज़ोफ्रिनिया : कल्पनालोक में जीने का मनोरोग

-विलक्षण प्रतिभा की भी स्किज़ोफ्रिनिया का शिकार होने की होती है प्रबल संभावना : डा. आलोक मनदर्शन

अयोध्या। ’विश्व स्किज़ोफ्रिनिया दिवस’- 24 मई, पूरी दुनिया में इस गंभीर मनोरोग के प्रति जागरूकता पैदा करने के उद्देश्य से मनाया जाने लगा है द्य ऑस्कर अवार्ड जीतने वाली फिल्म ए ब्यूटीफुल माइंड नोबल पुरस्कार विजेता जान नैश नामक अर्थशास्त्री के जीवन पर आधारित है जो स्किज़ोफ्रिनिया नामक मानसिक रोग के शिकार हो गये थे ।

Advertisements

कुछ नामचीन हस्तिया जिन्होंने विज्ञान,कला,साहित्य आदि में अदभुत प्रतिभा का लोहा मनवाया, उन्हें भीआगे इसी बीमारी का शिकार होना पड़ा द्य लेकिन इसका मतलब यह कत्तई नहीं है कि हर एक असाधारण व्यक्ति स्किज़ोफ्रिनिया से ही ग्रसित हो,बल्कि यह मनोरोग किसीभी आम या ख़ास को हो सकता है द्य

लक्षण :

स्किज़ोफ्रिनिया से ग्रसित व्यक्ति के मन में एक या अनेक झूठे विश्वास या भ्रान्ति इस गहरे तक बन जाती है कि अनेको सही तर्क दिए जाने पर भी वह अपने काल्पनिक विश्वासों को असत्य नहीं मानता है द्य ऐसे रोगी अपने दंपत्ति या प्रेमी की निष्ठां के प्रति भी शक या वहम बना सकता है द्य ऐसे मरीज़ खुद से बाते करना,हँसना,क्रोधित होना,अजीबो-गरीब मुद्रा बनाना जैसी असामान्य हरकते करने लगते है द्य करीबियों व परिजनों से भी खतरा महसूस करने लगता है । कर्मकाण्ड, तंत्र-मंत्र आदि शुरू कर सकता है। घर छोड़ कर भाग सकता है या खुद को कमरे में कैद कर सकता है द्य यह बातें मनो परामर्शदाता डा आलोक मनदर्शन ने जिला चिकित्सालय मे आयोजित कार्यशाला में कहीं ।

 उपचार व पुनर्वास :

 

डॉ.मनदर्शन ने बताया कि ऐसे मरीजो की अपनी मनोरुग्णता के प्रति अंतर्दृष्टि लगभग शून्य होती है जिससे वे खुद को मनोरोगी मानने को तैयार नहीं होते है ।
मरीज के शुरूआती लक्षणों को पहचान कर परिजनों द्वारा समुचित मनोउपचार कराना चाहिए तथा उनमे आत्मविश्वास व दूसरो पर विश्वास करने को प्रोत्साहित करना चाहिए जिससे स्वस्थ अंतर्दृष्टि एवं कल्पनालोक से इतर व्यवहारिक जीवन जीने के कौशल का विकास हो सके द्य मरीज से उनके असामान्य व्यवहार की प्रतिक्रिया सकारात्मक ढंग से करना चाहिए ।

Advertisements

Comments are closed.