मानवता की सच्ची सेवा है रक्तदान : शीतला सिंह

विवेकानन्द जयंती पर रक्तदान शिविर का हुआ आयोजन

अयोध्या। मेजर ध्यानचन्द खेल उत्थान समिति के तत्वावधान में स्वामी विवेकानन्द के जयन्ती समारोह के परिप्रेक्ष्य में ‘‘छठवाँ स्वैच्छिक रक्तदान शिविर व विचार गोष्ठी, सम्मान समारोह का आयोजन’’ ब्लड बैंक परिसर में किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि वरिष्ठ पत्रकार शीतला सिंह, विशिष्ट अतिथि के रूप में अशफाक उल्ला खाँ मेमोरियल शहीद शोध संस्थान के प्रबन्ध निदेशक सूर्यकान्त पाण्डेय उपस्थित रहे। समारोह की अध्यक्षता सूफी गायक रोहित हितेश्वर व संचालन घनश्याम सैनी ने किया।
इस मौके पर मुख्य अतिथि शीतला सिंह ने कहा कि एक बार रक्तदान करने से चार लोगों को जीवनदान मिल सकता है। प्रत्येक व्यक्ति को साल में एक बार रक्तदान जरूर करना चाहिए। यही मानवता की सच्ची सेवा है। सूर्यकान्त पाण्डेय ने युवाओं का उत्साहवर्धन करते हुए कहा कि रक्तदान को लेकर समाज में तमाम भ्रान्तियॉं व्याप्त हैं जिसके लिए युवाओं के बीच में इसे लेकर जागरूकता अभियान चलाये जाने की जरूरत है और इस तरह की स्वैच्छिक शिविर उक्त दिशा में मील का पत्थर साबित होगा।
संगठन के महासचिव आकाश गुप्ता ने कहा कि असहाय व जरूरतमन्द लोग संगठन से सम्पर्क करके निःशुल्क ब्लड प्राप्त कर सकते हैं जिससे किसी की जान बच सके। जिलाध्यक्ष हौसिला प्रसाद यादव के नेतृत्व में पूर्व में रक्तदान करने वाले साथियों को सम्मानित कर यह संकल्प कराया गया कि सभी साथी विषम आवश्यकता पड़ने पर हम पुनः रक्तदान करने के लिए तैयार रहें। राष्ट्रीय स्तर के पूर्व पहलवान अवधेश यादव, वेद सोनी, युवा पत्रकार विनोद यादव, शिवचरन गुप्ता, समाज सेवी अजय सिंह, शशांक वर्मा, आसू चौरसिया, राजबली यादव, विजय वर्मा, अनन्त कुमार शुक्ला, विनय तिवारी, सुमिष्ठा मिश्रा, बीना गुप्ता, सूरज तिवारी, अतुल मिश्र, बृजेश पाण्डेय आदि लोगों ने रक्तदान किया जिन्हें बी0पी0एड्0 संघर्ष मोर्चा की ओर से प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया। समापन पर शोभाक्षर संस्थान की अध्यक्ष शोभा गुप्ता द्वारा आभार ज्ञापित किया गया।

इसे भी पढ़े  शासन के निर्देश पर आलाधिकारियों ने किया कार्यालयों का निरीक्षण

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More