The news is by your side.

पीओएस से राशन वितरण शुरू होने के बाद कोटेदार परेशान

रूदौली । तहसील क्षेत्र में प्वॉइंट ऑफ सेल (पीओएस) से राशन वितरण होने की सरकार की मंशा पर कोटेदारो में हड़कम्प मच गया है । कोटेदार इस्तीफा देने लग गये हैं। सप्लाई विभाग में कोटे का लाइसेंस कैंसिल करने के लिए आवेदन आ रहे हैं। शासन ने प्रदेश में राशन वितरण में पारदर्शिता लाने के लिए यह नई व्यवस्था शुरू की है, लेकिन यह बात कोटेदारों को रास नहीं आ रही है। क्योंकि, इससे उनकी ऊपरी कमाई बंद हो गई है। लिहाजा वह इस्तीफा देने में ही भलाई समझ रहे हैं.

Advertisements

एक का इस्तीफा मंजूर

पीओएस व्यवस्था लागू होने के बाद से तहसील क्षेत्र के कोटेदारो में खलबली मची हुई है नई सर्विस शुरू होने के बाद एक कोटेदार ने इस्तीफा दिया है। मवई ब्लाक के शहबाज चक के कोटेदार उमादत्त ने इस्तीफा दिया है ।हलांकि, अधिकारियों का कहना है कि कोटेदार पीओएस व्यवस्था लागू होने से नहीं बल्कि व्यक्तिगत समस्याओं के कारण ऐसा कर रहा है जिस कोटेदार ने इस्तीफा दिया है वो हार्ट का मरीज है जिसने खाद्यान वितरण में असमर्थता जताई है ।जिसका इस्तीफा मंजूर कर लिया गया है।

यह भी है एक रीजन

कोटेदारों के इस्तीफा देने के पीछे राशन वितरण पर मिलने वाला कमीशन भी एक रीजन हैं। एक क्विंटल गेहूं या चावल बांटने पर लगभग 70 रुपये का कमिशन मिलता है। जबकि, एक लीटर केरोसिन की बिक्री पर एक से दो पैसे कमिशन तय है। गोदाम से दुकान तक राशन ले जाने का जिम्मा कोटेदार का ही है। जिसका अलग से किराया नहीं मिलता है। ऐसे में राशन वितरण में निगरानी बढ़ने के बाद कोटेदार कटने लग गये हैं। 

इसे भी पढ़े  रेलवे ट्रैक पर मिला महिला का क्षत विक्षत शव

ये गांव रिक्त

तहसील क्षेत्र के रूदौली ब्लाक के ग्राम महमूद मऊ ,जरायलकला ,सिठौली ,जखौली, पस्ता ,मोहहामिद पुर,अमराई गांव व मवई ब्लाक के रजा नगर गांव रिक्त है।

Advertisements

Comments are closed.