The news is by your side.

राम मंदिर निर्माण : जमीन खरीद में घेटाला, 2 करोड़ की जमीन 18 करोड़ में खरीदी

-रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के नाम पर 10 मिनट में करोड़ों की लूट : पवन पांडेय

अयोध्या। राम मंदिर के निर्माण के लिए जमीन खरीद में बड़े घोटाले का आरोप लगाते हुए पूर्व मंत्री तेज नारायण पांडेय पवन ने मामले की सीबीआई जांच कराने की मांग प्रधानमंत्री से की है।

Advertisements

समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता व पूर्व राज्यमंत्री तेज नारायण पांडेय पवन ने रविवार को एक होटल में प्रेसवार्ता कर राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के लोगों पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है। बताया कि प्रभु श्रीराम के भव्य मन्दिर निर्माण के नाम पर खरीदी गई जमीन के मूल्य में बड़ा घोटाला सामने आया है। 18 मार्च 2021 को अयोध्या धाम के बाग विजेश्वर में स्थित 12.80 स्क्वायर मीटर जमीन 7ः 05 मिनट पर बाबा हरिदास से रवी मोहन मिश्रा और सुल्तान अंसारी के नाम 2 करोड़ में खरीदी गई।

खरीद और बिक्री में राममंदिर न्यास के ट्रस्टी औऱ अयोध्या मेयर ही गवाह

-बतौर गवाह श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सदस्य डॉ अनिल मिश्रा व अयोध्या नगर निगम के महापौर ऋषिकेश उपाध्याय हैं। इसी मंदिर जमीन को 10 मिनट बाद ही 7ः15 बजे श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के नाम पर साढ़े 18 करोड़ में रवी मोहन मिश्रा और सुल्तान नवसारी से खरीदी ली गई। इसमें भी वही दो गवाह श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सदस्य डॉ अनिल मिश्रा व अयोध्या नगर निगम के महापौर ऋषिकेश उपाध्याय बने हैं। इस रजिस्टर्ड एग्रीमेंट का 17 करोड़ रुपये रवी मोहन मिश्रा और सुल्तान नवसारी के खाते में आरटीजीएस कर दिया गया। सभी कुछ बैनामे और एग्रीमेंट में लिखित है। महज 10 मिनट में 2 करोड़ की जमीन 18.5 करोड़ में खरीद एक बड़े घोटाले को जन्म दिया है।

इसे भी पढ़े  रामलला के दरबार पहुंचे कर्नाटक सरकार के आईएएस अधिकारी

पूर्व राज्य मंत्री पवन पांडे ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय के फैसले से मुझे भी खुशी हुई। अयोध्या के साथ ही पूरा देश श्रीराम के भव्य मंदिर निर्माण पर खुश है। सभी ने सहयोग राशि भी दी है। लेकिन प्रभु राम के मंदिर निर्माण की आस्था की यह लूट है। कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मांग करता हूं कि इस घोटाले का सीबीआई जांच हो। साथ ही आरटीजीएस के माध्यम से खातों में भेजी गई 17 करोड़ की धनराशि आगे किन किन खातों में गई या किन किन लोगों में बांटा गया इसकी भी सीबीआई जांच हो जिससे दूध का दूध व पानी का पानी हो सके।

पूर्व मंत्री पवन पांडेय भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए बड़े घोटले की आशंका जाहिर की है। प्रेसवार्ता में समाजवादी पार्टी के जिला प्रवक्ता चौधरी बलराम यादव व अन्य लोग भी शामिल रहे।

Advertisements

Comments are closed.