The news is by your side.

स्वास्थ्य केन्द्रों पर मनाया गया ‘प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व दिवस’

-1135 से अधिक महिलाओं ने करवाई प्रसव पूर्व जाँच

अयोध्या । राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन उत्तर प्रदेश द्वारा गर्भवती महिलाओं को प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान (पी0एम0एस0एम0ए0) के तहत मुफ्त जांचे एवं मुफ्त उपचार की सेवाएं प्रदान की जा रही हैं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. अजय राजा ने बताया कि प्रधानमन्त्री सुरक्षित मातृत्व दिवस के आयोजन सत्र पर गर्भवती महिला एवं धात्री महिला को कोविड टीकाकरण सत्र स्थल पर जाकर टीकाकरण हेतु भी प्रेरित किया जाए। सुरक्षित मातृत्व अभियान पी0एम0एस0एम0ए0 के अन्तर्गत समस्त गर्भवती महिलाओं को गर्भ की द्वितीय/तृतीय तिमाही में राजकीय चिकित्सालयों में कम से कम एक बार विशेषज्ञ अथवा एम0बी0बी0एस0 चिकित्सक की देख-रेख में गर्भवस्था में प्रसव पूर्व गुणवत्तापरक जाँचों एवं उपचार सुनिश्चित करना है।

Advertisements

अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. आरके सक्सेना ने बताया कि प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान के तहत आज जनपद में 1135 से अधिक महिलाओं ने प्रसव पूर्व जाँच करवाई। इसके लिए जिला महिला अस्पताल समेत समस्त सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस मनाया गया। सभी नोडल अधिकारी सत्र के सपोर्टिव सुपरविजन के समय उपरोक्त जानकारी दी जा रही है या नही की समीक्षा भी कर लें। इस मौके पर महिला रोग विशेषज्ञों की देख रेख में गर्भवती महिलाओं की प्रसव पूर्व की सम्पूर्ण जांच कर उनका टीकाकरण किया गया द्य विटामिन, आयरन-फोलिक एसिड व कैल्शियम की दवाएं वितरित कर महिलाओं को प्रसव पूर्व व प्रसव उपरान्त संतुलित और पौष्टिक आहार लेने, साफ-सफाई रखने, समय-समय पर चिकित्सीय परामर्श लेने और प्रसव संस्थागत कराने के लिए प्रेरित किया गया द्यसाथ ही प्रधानमन्त्री सुरक्षित मातृत्व दिवस के आयोजन पर एनटीईपी, द्वारा हर सत्र पर खांसी/बुखार से पीड़ित गर्भवती महिला के बलगम जांच की सुविधा दी जानी है ।

इसे भी पढ़े  गरीबों के कल्याण को लेकर बनेंगी और योजनाएं : अनुप्रिया पटेल

प्रबंधक राम प्रकाश पटेल ने बताया कि आयोजित सुरक्षित मातृत्व दिवस के अवसर पर महिला रोग विशेषज्ञ डॉक्टर के द्वारा गर्भवती महिलाओं की एएनसी (प्रसव पूर्व जांच) की गई। इस दौरान महिलाओं का अल्ट्रासाउंड, वजन, हीमोग्लोबिन, ब्लड-प्रेशर, ब्लड-ग्रुप, ब्लड-शुगर, एचआईबी, हेपेटाइटिस-बी व पेट की जाँच की गयी। इसके अलावा महिलाओं को टिटनेस का टीका लगाया गया तथा आयरन-फोलिक एसिड, कैल्शियम और अन्य आवश्यक दवाएं दी गयीं। जाँच के दौरान गंभीर रक्ताल्पता पाई गयी महिलाओं को आयरन-शुक्रोज लगाया गया तथा उन्हें दवा के नियमित सेवन के साथ-साथ विशेष देखभाल रखने और समय-समय पर चिकित्सीय परामर्श लेते रहने की सलाह दी गयी। डीसीपीएम् अमित कुमार ने बताया कि किसी गर्भवती महिला में यदि 7 ग्राम से कम हीमोग्लोबिन होता है, तो उसको सीवियर एनीमिया की स्थिति में रखा जाता है। महिला रोग विशेषज्ञ डॉ.सईदा रिजवी ब्लाक मसौधा जाकर गर्भवती महिलाओ को सुरक्षित मातृत्व दिवस का मुख्य उद्देश्य गर्भवती महिलाओं को जागरूक करना, सुरक्षित प्रसव और शिशु को स्वस्थ जीवन प्रदान करने के साथ ही मातृ मृत्यु-दर को कम करना है

इसी क्रम में निजी महिला रोग विशेषज्ञ / एमबीबीएस डॉ.जयन्ती चौधरी मिल्कीपुर जाकर गर्भवती महिलाओ को सुरक्षित मातृत्व दिवस के मौके पर महिलाओं का अल्ट्रासाउंड व् पैथालाजी जांच आदि की जानकारी दी गई। डा.ज्योति सिंह ने अर्बन पीएचसी जनौरा के स्वास्थ्य केन्द्रों में आयोजित प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान में केन्द्रों पर अधिक से अधिक गर्भवती महिलाओं की प्रसव पूर्व की सभी जाँच कर चिकित्सीय परामर्श दिया गया। जिला महिला अस्पताल की परिवार नियोजन काउन्सलर डॉ. प्रियंका मिश्रा ने गर्भवती महिलाओं को बास्केट ऑफ़ च्वाइस के तहत उनको गर्भनिरोधक साधनों के बारे में विस्तार से जानकारी दी तथा उन्होंने कहा कि किसी प्रकार की भ्रांतियों में ना पडकर उचित गर्भनिरोधक साधनों को अपनाये।

इसे भी पढ़े  संविधान संशोधन की बात कहकर बाबा साहब का अपमान कर रहे बीजेपी के लोग : के.एच. मुनियप्पा

 

Advertisements

Comments are closed.