प्रभु झूलेलाल जयंती का हुआ घरों में आयोजन

Advertisement

अयोध्या। आजादी के 73 वर्षों बाद पहली बार सिंधी समाज का सबसे बड़ा पर्व प्रभु झूलेलाल जयंती सिंधियत दिवस समाज ने अपने-अपने घरों में अपने को बंद करके पूरे विधि विधान के साथ मनाया कोरोना वायरस की महामारी को रोकने के लिए पूरा देश 21 दिनों के लिए पूरी तरह से लॉक डाउन है भक्त पहलाद सेवा समिति के अध्यक्ष राजकुमार मोटवानी की अगुवाई में रामनगर कॉलोनी के संत नवल राम दरबार में मात्र सात पदाधिकारियों और सदस्यों के साथ प्रातः कलश पूजन, आरती व अरदास की गई इस मौके पर प्रभु झूलेलाल के चित्र पर माल्यार्पण किया गया और विश्वव्यापी कोरोना वायरस की महामारी का जल्द से जल्द खात्मा हो इसके लिए प्रभु झूलेलाल के समक्ष अरदास की गई सिंधी समाज के प्रवक्ता ओमप्रकाश ओमी ने बताया कि सायं काल सिंधी समाज के सभी परिवारों ने अपने अपने घरों में पांच पांच दीप जलाए और अपने घरों में अपने परिवार के सदस्यों के साथ प्रभु झूलेलाल की आरती ,वंदना व अरदास की और शपथ लेते हुए कहा कि 21 दिनों तक यानी 14 अप्रैल तक अपने-अपने घरों से बाहर नहीं निकलेंगे और पूरी तरह से नियमों का पालन कर शासन प्रशासन का सहयोग करेंगे प्रवक्ता ने बताया कि कलश विसर्जन 26 मार्च दिन बृहस्पतिवार को गुप्तार घाट में होगा कलश पूजन में कन्हैया लाल सागर ,सुरेश भारतीय, हरीश सावलानी, रामदास खटवानी ,उमेश संगतानी मौजूद थे।

इसे भी पढ़े  जन सहयोग से करें कोरोना महामारी का मुकाबला : राजन पाण्डेय