in ,

अवैध बैरियर लगाकर पुलिस कर्मी वसूली में जुटे, मुख्यमंत्री से शिकायत

-कुचेरा बाजार स्थित शाहगंज मोड़ पर इनायत नगर पुलिस द्वारा स्थापित किया गया है बैरियर

मिल्कीपुर। इनायत नगर थाना क्षेत्र के कुचेरा बाजार स्थित शाहगंज मोड़ पर इनायत नगर पुलिस द्वारा स्थापित किए गए अवैध बैरियर की आड़ में की जा रही अवैध वसूली के मामले ने तूल पकड़ लिया है। पीड़ित ट्रक वाहन स्वामी ने दिनदहाड़े हो रही के मामले की शिकायत प्रदेश के मुख्यमंत्री के महत्वाकांक्षी शिकायत प्रणाली जनसुनवाई पोर्टल पर करते हुए आरोपियों के खिलाफ कार्यवाही की मांग की है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक अयोध्या रायबरेली राष्ट्रीय राजमार्ग स्थित मीठे गांव रसूलपुर टोल प्लाजा से लगभग 3 किलोमीटर पहले कुचेरा शाहगंज मोड पर इनायत नगर पुलिस अवैध बैरियर लगा दिया गया है। यही नहीं उक्त बैरियर पर तीन पुलिस कर्मियों की 8-8 घंटे की शिफ्ट बनाकर तैनाती भी कर दी गई है।

मंगलवार को प्रातः 7ः00 बजे ट्रक संख्या यूपी 42 सी टी मोरंग लोड कर शाहगंज बाजार स्थित एक वेल्डिंग मटेरियल की दुकान पर खाली करने जा रहा था। जिसे बैरियर पर तैनात होमगार्ड द्वारा रोक लिया गया और पहले तो उसे टोल क्रॉस करके फैजाबाद के रास्ते वापस आने की बात कही गई। किंतु जब ट्रक ड्राइवर ने गाड़ी अनलोड करने के स्थल को बताया तब होमगार्ड ने 2 सौ रुपए की मांग की। ट्रक चालक द्वारा पैसा देने में असमर्थता व्यक्त किए जाने के बाद होमगार्ड ने ट्रक का फोटो बनाया और रसूलपुर टोल प्लाजा के प्रबंधक के पास गाड़ी नंबर स्कैन कर टाल काटे जाने हेतु प्रेषित कर दिया। यह कोई नया मामला नहीं है बीते कई महीनो से यह अवैध बैरियर स्थापित कर इनायत नगर पुलिस द्वारा 24 घंटे जमकर अवैध वसूली की जा रही है जिसके चलते चार पहिया वाहन चालक से लेकर भारी वाहन स्वामी प्रतिदिन अवैध वसूली के शिकार हो रहे हैं।

घटना के बाद पीड़ित वाहन स्वामी ने सीओ मिल्कीपुर सुनील कुमार सिंह से मुलाकात कर आपबीती बताया और अवैध बैरियर को हटवाते हुए आरोपी पुलिसकर्मी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। सबसे मजे की बात तो यह है कि उक्त अवैध बैरियर पर आए दिन पुलिसकर्मियों एवं वाहन स्वामियों के बीच तकरार होती रहती हैं। सीओ मिल्कीपुर श्री सिंह ने बताया कि मामले की शिकायत का संज्ञान लिया गया है और मंगलवार को बैरियर पर तैनात रहे होमगार्ड को हटाए जाने का आदेश दे दिया है। अब मिल्कीपुर की त्वरित कार्यवाही भी संदेह के दायरे में आ गई है, क्योंकि उन्होंने अवैध बैरियर को हटाए जाने के मामले को नजरअंदाज कर केवल अवैध वसूली की शिकायत की जद में आए होमगार्ड को हटाने का आदेश दिया है। हालांकि उन्होंने मामले को स्वयं अपने स्तर से जांच करते हुए कार्रवाई की बात कही है।

इसे भी पढ़े  अवध विवि व अदम्य चेतना के संयुक्त संयोजन में सीता अशोक पौधों का रोपण

What do you think?

Written by Next Khabar Team

कुमारगंज के अली हॉस्पिटल को प्रशासन ने किया सील

एनएच 30 के फोर लेन चौड़ीकरण का कार्य 96 फीसदी पूर्ण