The news is by your side.

छात्र की मौत से संबंधित साक्ष्य खंगाल रही पुलिस

-विश्वविद्यालय के सुरक्षा अधिकारी सहित हॉस्टल वार्डन और सहायक छात्रावास अधीक्षक से पुलिस ने की पूछताछ

मिल्कीपुर।आचार्य नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के एमएससी द्वितीय वर्ष के छात्र यशपाल सिंह द्वारा आत्महत्या किए जाने के मामले में पुलिस ने जांच पड़ताल तेज कर दी है। वहीं दूसरी ओर पुलिस विभाग की फोरेंसिक टीम ने बुधवार को छात्र के सील कमरे को पुलिस की मौजूदगी में खुलवाकर घटना के संबंध में साक्ष्य संकलित किया और छात्र के कमरे की फोटोग्राफ्स भी बनाई।

Advertisements

छात्र की मौत के तीसरे दिन प्रभारी निरीक्षक कुमारगंज रतन सिंह एवं मामले के विवेचक एनडीए चौकी प्रभारी अरविंद कुमार पटेल ने विश्वविद्यालय के सुरक्षा प्रभारी सहित छात्रावास के वार्डन और सहायक छात्रावास को थाने तलब कर पूछताछ की। पुलिस ने पूछताछ में सवाल किया कि आखिर बिना पुलिस के पहुंचे आप लोग छात्र के कमरे में क्यों घुसे, इससे साफ परिलक्षित है कि आप लोगों द्वारा युवक की मौत को लेकर मौके पर मौजूद सुसाइड नोट सहित अन्य साक्ष्य मिटा दिए गए हैं।

पुलिस के सवालों का प्रति उत्तर देने में विश्वविद्यालय के सुरक्षा अधिकारी आर के सिंह सहित हॉस्टल वार्डन और अन्य प्रशासनिक अधिकारी निरुत्तर रहे। वहीं दूसरी ओर विश्वविद्यालय में चर्चा है कि छात्र की मौत के बाद मौके पर पहुंचे अधिकारी ही सीधे उसके हॉस्टल रूम में गए थे और छात्र की मौत को लेकर मौके पर मौजूद परिस्थितिजन्य साक्ष्य मिटा दिए गए। अब मौके से गायब सुसाइड नोट को लेकर पुलिस के शक की सुई इन्हीं के इर्द गिर्द घूम रही है।

इसे भी पढ़े  छात्राओं ने निकाली मतदाता जागरूकता रैली

साथी छात्र की मौत के बाद छात्र-छात्राओं ने निकाला कैंडल मार्च


कुमारगंज। आचार्य नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय कुमारगंज में तीन दिन पूर्व एमएससी एग्रोनॉमी फाइनल ईयर के छात्र यशपाल सिंह की मौत को लेकर साथी छात्र- छात्राओं द्वारा विश्वविद्यालय प्रशासन के खिलाफ नाराजगी के साथ-साथ शोक संवेदना व्यक्त किए जाने का सिलसिला जारी है। छात्रों ने घटना के दूसरे दिन देर रात दिवंगत साथी की आत्मा की शांति एवं न्याय दिलाए जाने को लेकर कैंडल मार्च निकाले जाने की योजना बनाई। जिसकी भनक लगते ही विश्वविद्यालय प्रशासन ने पहले तो उन्हें कैंडल मार्च निकालने से रोके जाने की व्यवस्था बनाई। किंतु छात्रों का आक्रोश एवं गुस्सा देख प्रशासन नतमस्तक दिखा।

विश्वविद्यालय के सुरक्षा अधिकारी आर के सिंह ने विश्व विद्यालय के दोनों गेटों में सुरक्षा चौकसी बढ़ा दी थी और गेट पर ताले लगवा दिए थे। तमाम बंदिशों के बावजूद भी छात्रों ने बीते मंगलवार की देर रात कैंडल मार्च निकाला और साथी छात्र को श्रद्धांजलि अर्पित की। छात्र-छात्राओं ने विश्वविद्यालय के गेट नंबर 2 पर कैंडल मार्च के बाद बैठकर शांति प्रार्थना की।

छात्र-छात्राओं का भारी हुजूम विश्वविद्यालय के वीआईपी गेट पर जा पहुंचा। जहां छात्र-छात्राओं ने धरने पर बैठकर विश्वविद्यालय प्रशासन के खिलाफ पुनः नारेबाजी शुरू कर दी। रात्रि करीब 2ः30 बजे आंदोलित छात्र धरना स्थल से हटे। छात्र-छात्राओं की मांग है कि आरोपी शिक्षक की तत्काल गिरफ्तारी की जाए, साथ ही दिवंगत छात्र के परिजनों को मुआवजा दिलाया जाए।

Advertisements

Comments are closed.