The news is by your side.

कोविड संक्रमण से बचाव व प्रबंधन के लिए हुआ मॉक ड्रिल

नोडल अधिकारी ने चिकित्सकों और पैरामेडिकल को किया सतर्क

अयोध्या। कोविड 19 संक्रमण की वर्तमान में प्रसार की रोकथाम एवम बचाव की तैयारी हेतु सरकार द्वारा पूरे प्रदेश में 11 अप्रैल 2023 को कोविड केयर के लिए चिन्हित चिकित्सालयों में मॉक ड्रिल अयोजित किए जाने के निर्देश के दृष्टिगत आज जनपद अयोध्या में चिन्हित कोविड केयर चिकित्सालयों जनपद अयोध्या के लिए राज्य स्तर से नामित नोडल अधिकारी अपर निदेशक, चिकित्सा स्वास्थ्य एवम परिवार कल्याण अयोध्या मंडल डा सुरेश चंद्र कौशल के दिशा निर्देश में जनपद स्तरीय चिकित्सालयों के साथ साथ ब्लॉक स्तरीय चिकत्सालय में कोविड संक्रमण के रोकथाम,प्रबंधन, बचाव और तैयारियों पर मॉक ड्रिल आयोजित हुआ।

Advertisements

मॉक ड्रिल के सफल संचालन एवम समस्त तैयारियों का जायजा लेने हेतु नामित नोडल अधिकारी के साथ साथ मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ अजय राजा, सीएमएस डॉ आर पी वर्मा,जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ वेद प्रकाश त्रिपाठी, एपिडेमोलॉजिस्ट डा अरविन्द श्रीवास्तव ने जिला महिला चिकित्सालय मे तैयारियों के लिए मॉक ड्रिल का निरीक्षण एवम अवलोकन किया। नोडल अधिकारी ने उपस्थित समस्त चिकित्सकों और पैरामेडिकल को सतर्क किया कि वे तैयारियों को सदैव पुख्ता रखें जिससे किसी भी आपात स्थिति में हम सब मिलकर आमजन के जीवन को कोविड के खतरों से सुरक्षित रख सकें।

कोविड केयर के लिए चिन्हित अन्य चिकित्सालयों में मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा नामित एसीएमओ/ डिप्टी सीएमओ द्वारा भी जनपद के अन्य कोविड केयर चिकित्सा इकाइयों जिला चिकित्सालय में डा दीपक पाण्डेय, सीएचसी पूराबाजार में डा. डी के शर्मा,,बीकापुर में डा. राजेश चौधरी, मवई में डा. दिलीप सिंह ,मसौधा में डा सईद अहमद,श्रीराम हॉस्पिटल में डा. संदीप शुक्ला,१०० बेड चिकित्सालय कुमारगंज में डा.अंसार अली के नेतृत्व में संक्रमण की रोकथाम एवम बचाव की तैयारियों हेतु मॉक ड्रिल सफलतापूर्वक सम्पन्न किया गया।

इसे भी पढ़े  राम जन्मोत्सव पर श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए भाजपा ने लगाए सुविधा केन्द्र

मॉक ड्रिल के आयोजन उपरान्त नामित नोडल अधिकारी द्वारा स्वास्थ्य विभाग द्वारा मॉक ड्रिल हेतु नामित अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे सभी चिन्हित चिकित्सालयों का भ्रमण कर कोविड संक्रमण के रोकथाम और बचाव की तैयारियों का जायजा लेते रहें और चिकित्सालयों में ऑक्सीजन प्लान्ट,कंसेंट्रेटर, ऑक्सीजन सिलेंडर, बेड, सभी आवश्यक दवाओं की उपल्बधता सुनिश्चित कराएं।

आवश्यकता अनुसार यदि कोई समस्या आती है तो उसका निराकरण सुनिश्चित कराएं। यदि चिकित्सक और अन्य पैरामेडिकल स्टॉफ के पुनः प्रशिक्षण और संवेदीकरण की जरूरत हो तो तत्काल कराएं साथ ही यदि ऑक्सीजन प्लान्ट के संचालन या तकनीक त्रुटि हो तो तत्काल शासन को अवगत कराते हुए दुरुस्त कराएं। नोडल अधिकारी ने सभी को निर्देशित किया कि सभी को समस्त तैयारियां सतत बनाए रखनी है।

Advertisements

Comments are closed.